कृषि विज्ञान केंद्र का भ्रमण कर दिया प्राकृतिक खेती को बढावा देने का निर्देश

बस्ती – प्रदेश के कृषि, कृषि शिक्षा एवं अनुसंधान मंत्री, सूर्य प्रताप शाही, रामपुर कारखाना, विधायक सुरेन्द्र चौरसिया, पूर्व विधायक देवरिया सदर सत्य प्रकाशमणि त्रिपाठी व जिलाधिकारी प्रियंका निरंजन ने आचार्य नरेन्द्र देव कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय, कुमारगंज, अयोध्या द्वारा संचालित कृषि विज्ञान केंद्र बस्ती का भ्रमण किया। केंद्र पर स्थापित मशरूम उत्पादन इकाई के निरीक्षण के दौरान उन्होंने केन्द्र के वैज्ञानिकों को निर्देशित किया कि केन्द्र पर वर्ष भर विभिन्न प्रजाति के मशरूम उत्पादन करने हेतु प्रशिक्षण व प्रदर्शन कराने पर बल दिया, जिससे बेरोजगार नवयुवक स्वरोजगार के रूप में इसे अपनाकर आय अर्जित कर सकें।
उन्होने निर्देश दिया कि प्राकृतिक खेती को जनपद में बढावा देने हेतु वैज्ञानिकों को कार्ययोजना बनाकर किसानों को बीजामृत, घनामृत व जीवामृत आदि को तैयार करने की तकनीक पर प्रशिक्षण व प्रर्दशन आयोजित करें तथा प्राकृतिक खेती का प्रचार-प्रसार करने को कहा। उन्होंने भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान, नई दिल्ली के सहयोग से संचालित काला नमक धान की विभिन्न प्रजातियों के ट्रायल, पाली हाउस, नेट हाउस, मातृवृक्ष फल पौधशाला, जगरी यूनिट कंापलेक्स, बकरी पालन, मुर्गी पालन एवं जैविक उत्पादन इकाई (वर्मी कंपोस्ट एवं अजोला यूनिट) का अवलोकन किया।


उन्होंने नेट हाउस व फलवृक्ष मातृ पौधशाला में लगी हुई आम, चीकू, शरीफा, सेब, अंजीर, नीबूं, आवला, कटहल, लीची, पपीता आदि की विभिन्न किस्मों को देखकर प्रसन्नता व्यक्त की तथा निर्देशित किया कि इनकी अधिक से अधिक पौध तैयार कर किसानों को वितरित करें तथा पाली हाउस में बेमौसमी सब्जियों को उगाने की तकनीक का विस्तृत प्रचार-प्रसार करें। भ्रमण के पश्चात उन्होंने केंद्र के अधिकारियों, वैज्ञानिकों एवं कर्मचारियों के साथ बैठक की तथा आगामी कार्य योजना की समीक्षा की और इस केन्द्र द्वारा किसानो के हित में किए जा रहे कार्याे की सराहना की।
सूर्य प्रताप शाही ने आज आजादी का अमृत महोत्सव के तहत स्वतंत्रता सप्ताह “हर-घर तिरंगा” कार्यक्रम की शुरुआत की। जिलाधिकारी ने मंत्री को कृषि विभाग की विभिन्न योजनाओं की प्रगति के बारे में जानकारी दी। केंद्र के वरिष्ठ वैज्ञानिक डा. डी. के. श्रीवास्तव ने अवगत कराया कि केन्द्र द्वारा जिले की गौशालाओं को निःशुल्क नैपियर घास वितरित की जा रही है व किसानों तक कृषि तकनीकों के पहुंचाने हेतु प्रगतिशील कृषकों का एक व्हाट्सएप ग्रुप बनाया गया है, जिस पर आवश्यक सलाहकारी सेवाएं समय-समय पर दी जा रहीं हैं।
भ्रमण के अवसर पर संयुक्त निदेशक उद्यान अतुल कुमार सिंह, उप निदेशक कृषि अनिल कुमार, भूमि संरक्षण अधिकारी डा. राज मंगल चौधरी, जिला कृषि अधिकारी मनीष कुमार सिंह, केन्द्र के वैज्ञानिक डॉ. प्रेम शंकर, डॉ. बी.बी सिंह, डा. अंजली वर्मा, हरिओम मिश्र, केंद्र के कार्यालय अधीक्षक निखिल सिंह, कम्प्यूटर प्रोग्रामर जितेन्द्र प्रताप शुक्ल, प्रहलाद सिंह एवं समस्त कर्मचारी गण उपस्थित रहें।

See also  डीएम और एसपी ने किया सल्टौआ सीएचसी का निरीक्षण