(Shinde faction)

एकनाथ शिंदे गुट (Shinde faction) में विरोध की सुगबुगाहट!

मुंबई: मंत्री बने मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे गुट (Shinde faction) के विधायक अपने विभागों से खुश नहीं हैं। हालांकि, विधायकों ने इस बात से इनकार किया है। इधर, शिवसेना (उद्धव ठाकरे गुट) ने विधायकों के विभागों को लेकर भारतीय जनता पार्टी पर निशाना साधा है। शनिवार को मंत्रियों को विभागों का आवंटन किया गया है।

शिंदे गुट (Shinde faction) के कुछ ही विधायक विभागों से खुश हैं। रिपोर्ट में अंदरूनी सूत्रों के हवाले से बताया गया कि अधिकांश विधायक ‘डिमोशन’ से नाराज हैं। खबर है कि दादा भुसे और सांदिपन भुमरे ने सरकार में अपने विभागों को लेकर शिकायत की है। इसके अलावा सिलोद विधायक अब्दुल सत्तार को कृषि मंत्रालय दिए जाने से भी कुछ सदस्य नाराज होने की खबर है।

गुजरात कांग्रेस का टूटना जारी, 6 MLAs छोड़ेंगे पार्टी; क्या फंड की कमी है वजह?

एक ओर जहां भुमरे को रोजगार गारंटी योजना और होर्टिकल्चर विभाग दिए गए हैं। वहीं, ठाकरे सरकार में कृषि मंत्री रहे भुसे को पोर्ट्स और माइनिंग विभाग दिया गया है। रिपोर्ट के अनुसार, इसके अलावा शिंदे गुट (Shinde faction) के विधायक भाजपा को बड़े विभाग मिलने से भी नाराज हैं। भाजपा के खाते में वित्त, राजस्व, ग्रामीण विकास, पर्यावरण, पर्यटन जैसे विभाग आए हैं।

ठाकरे का निशाना
शिवसेना के मुखपत्र ‘सामना’ में मंत्रियों को विभागों के आवंटन पर भी सवाल उठाए गए हैं। पार्टी का कहना है कि भाजपा ने शिंदे गुट (Shinde faction) के विधायकों का मजाक बना दिया है। लेख में दावा किया गया है कि भाजपा ने सभी बड़े मंत्रालय अपने हिस्से में कर लिए हैं। हालांकि, भुमरे और भुसे ने नाराजगी की बात से इनकार किया है। जबकि, भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष चंद्रशेखर बावनकुले ने सामना में की गई आलोचना पर सवाल उठाए हैं।

See also  महाराष्ट्र में अन्य राज्यों के श्रमिकों लिए बनेगा लेबर ब्यूरो, प्रवासी श्रमिकों का होगा पंजीकरण