मोहर्रम का त्योहार प्रखंड क्षेत्र में शांति पूर्वक संपन्न हो गया

बिक्रमगंज/रोहतास। प्रखंड क्षेत्र में मंगलवार को मोहर्रम के दशमी का जुलूस निकाला गया । चौक से ताजिया के साथ चलकर जुलूस विभिन्न चौक-चौराहे से होते हुए कर्बला तक पहुंचा । जहां विधि-विधान के साथ पहलाम किया गया । उलेमाओं ने तकरीरें कर हजरत इमाम हुसैन के पवित्र जीवन पर प्रकाश डाला । शहीदाने कर्बला के सिद्धांतों का अनुसरण करने का आह्वान किया । हज़रत इमाम हुसैन की याद में मोहर्रम के यौम-ए-आशूरा पर शहर में परम्परागत जुलूस निकाला गया । जिसमें बंदों ने शामिल होकर नेकी, सच्चाई, ईमानदारी के रास्ते पर चलने का संकल्प लिया । जुलूस में आगे-आगे परचम-ए-इस्लाम, अलम-ए-मुबारक तथा मातमी जत्थे मरसिए पढ़ते हुए चल रहे थे ।
उनके पीछे छोटे-बड़े ताजिये, सवारियां, अखाड़े, नगाड़े, ढ़ोल, ताशे भी प्रमुख रूप से शामिल हुए । प्रमुख चौराहों पर  खिलाड़ियों ने लाठी, भाला, बना-बनैठी पर करतब दिखाये । विभिन्न स्थानों से आए उलेमाओं ने तकरीरें कर हजरत इमाम हुसैन की पवित्र जीवनी पर प्रकाश डालकर शहीदाने कर्बला के सिद्धांतों का अनुसरण करने का आह्वान किया । प्राचीन कर्बला मैदान पर लंगर-ए-आम हुआ तथा चौराहों पर शर्बत और तवर्रुक बांटा गया । कर्बला मैदान पर स्थित प्राचीन ताजियागाह में ताजिया को दफन किए गए । शांति पूर्वक मोहर्रम का त्योहार संपन्न हो इसके लिए स्थानीय प्रशासन तत्पर रही । सभी ताजिया जुलूस के साथ पुलिस के जवान चलते दिखे । कर्बला और संदिग्ध स्थानों पर दंडाधिकारी तैनात किये गये थे ।
See also  एसएफआई ने की आशिक मिजाज प्रोफेसर के बर्खास्तगी की मांग