क्रिकेटप्रेमियों में दिखा मैच को लेकर उत्साह, चार घंटे पहले से ही पहुंचने लगे थे स्टेडियम…

पुलिस ने भी सुरक्षा व्यवस्था के लिए अलसुबह से संभाल लिया मोर्चा
इंदौर। भारत और न्यूजीलैंड के बीच मंगलवार को इंदौर के होल्कर स्टेडियम में हो रहे एक दिवसीय मैच को लेकर क्रिकेटप्रेमियों का उत्साह चरम पर दिखाई दिया। रेसकोर्स रोड स्थित होल्कर स्टेडियम के बाहर करीब चार घंटे पहले सुबह साढ़े नौ बजे से ही खेलप्रेमी यहां पर दिखाई देने लगे। पुलिस ने भी सुरक्षा-व्यवस्था को लेकर अलसुबह से ही मोर्चा संभाल लिया और स्टेडियम के बाहर व अंदर पुलिस बल तैनात हो गया। सुरक्षा को लेकर पुलिस के अधिकारी भी लगातार मॉनीटरिंग करते नजर आए। एक दिवसीय अन्तरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच के लिए शहर में जोरदार माहौल है। सुबह के समय स्टेडियम के बाहर शुरूआत में भीड़ कम थी, फिर लम्बी-लम्बी कतारें प्रवेश द्वारों पर लगना प्रारंभ हो गई थीं। प्रवेश के लिए कड़ी सुरक्षा व्यवस्था से गुजरना पड़ा। पानी की बॉटल, चाबी के छल्ले व सिक्के प्रवेश द्वार पर ही निकला लिए गए थे। महिला दर्शकों के साथ बच्चों में भी विशेष उत्साह देखने को मिला।

तिरंगे से पुते चेहरे दिखाई दिए
दर्शकों में लेकर उत्साह इस कदर था कि कोई दर्शक अपने पसंदीदा क्रिकेटर की टीशर्ट पहनकर स्टेडियम पहुंचा तो कइयों के चेहरे तिरंगे पुते नजर आ रहे थे। इनमें अधिकांश संख्या युवक-युवतियों की थी तो वहीं बच्चों और महिलाओं ने भी चेहरे पर तिरंगे बनवा रखे थे। कई दर्शक भारतीय टीम की ड्रेस पहने नजर आए। कई दर्शकों के हाथों में तिरंगा था तो चेहरे पर भी तिरंगा पुतवा रखा था।

लगी लाइन, चेकिंग के बाद मिला प्रवेश
मैच शुरू होने के करीब एक घंटे पहले से दर्शकों को स्टेडियम में प्रवेश देना शुरू कर दिया गया था। मैच देखने के जाने वाले दर्शकों की एंट्री होलकर स्टेडियम के अलग-अलग गेटों से रखी। दर्शकों को अपने टिकट पर लिखे गेट से ही एंट्री दी गई। इसके लिए स्टेडियम के सभी गेट पर लाइन लगी दिखाई दी। गेट पर सख्त चेकिंग के बाद ही दर्शकों को प्रवेश दिया गया। चेकिंग की मॉनीटरिंग भी पुलिस अधिकारी कर रहे थे।

See also  लुकाकु ने 32वें सेकेंड में दागा गोल, इंटर मिलान की आसान जीत

इंग्लैंड के नागरिक भी पहुंचे
इंदौर में एक विवाह समारोह में शामिल होने आए इंग्लैंड के नागरिक लियम भी होलकर स्टेडियम में मैच देखने पहुंचे। उन्होंने कहा कि वे यहां भारतीय टीम के सपोर्ट में आए हैं। लियम ने बताया कि उनकी पत्नी भारतीय है और वे भारतीय टीम को चीयर करेंगे।

10 बजे से बंद कर दिए रास्ते
सुरक्षा-व्यवस्था को दुरुस्त रखने के लिए भारी पुलिस फोर्स भी स्टेडियम के बाहर तैनात किया गया। सुबह से अधिकारी भी यहां पर पहुंचे और ड्यूटी स्थल पर तैनात हो गए। तय समय पर स्टेडियम आने वाले रास्तों पर बैरिकेडिंग कर दी गई है। सुबह करीब 10 बजे से रास्तों को बंद करने के साथ ही डायवर्ट भी कर दिए गए। इससे वाहन चालकों को परेशानी का सामना करना पड़ा।

तीन हजार जवानों की तैनाती, अतिरिक्त बल बुलवाया
मैच में सुरक्षा-व्यवस्था के लिए एक हजार जवानों का अतिरिक्त बल बुलाया गया है, जिन्हें मिलाकर करीब तीन हजार पुलिसकर्मी तैनात किए गए हैं। आसपास के मार्गों पर ट्रैफिक पुलिस के ढाई सौ जवानों की तैनाती भी गई है। एडिशनल कमिश्नर राजेश हिंगणकर ने बताया कि मैच में सुरक्षा व्यवस्था के लिए करीब एक हजार से अधिक का अतिरिक्त बल मिला है। चार कंपनियों के बल के साथ 80 डीआईजी, एसपी, एएसपी और डीएसपी स्तर के अधिकारी भी तैनात किए गए हैं।

पुलिस ने ग्राहक बनकर पकड़ी टिकट की कालाबाजारी
इंडिया-न्यूजीलैंड वन डे मैच टिकट ब्लैक में बेचने वाले चा युवकों को पुलिस ने पकड़ा है। उन्होंने ऑनलाइन प्लेटफार्म से 16 टिकट खरीदे थे। यह पांच गुना महंगे दाम में ये टिकट ब्लैक में बेच रहे थे। इसके लिए इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट भी शेयर की थी। तेजाजी नगर पुलिस के मुताबिक, सूचना मिली थी कि इंस्टाग्राम आईडी से एक युवक ने इंडिया-न्यूजीलैंड वन डे मैच के टिकट संबंधी जानकारी शेयर की है, जिसमें वह टिकट होने का दावा कर रहा है। इसके बाद सिपाही को इंस्टाग्राम आईडी से ही ग्राहक बनाकर संपर्क कराया गया। इसके बाद पुलिस ने शानू को पकड़ा। फिर उसके साथी विक्रम, एजाज और तुषार को भी पकड़ लिया, जिनसे करीब 16 टिकट बरामद किए हैं।

See also  विजय हजारे ट्रॉफी : झारखंड, गुजरात और जम्मू एवं कश्मीर की जीत

पुलिस ने बताया कि पकडे गए युवक इंदौर और शिवपुरी के रहने वाले हैं और पढ़ाई करने के साथ कॉल सेंटर में नौकरी भी कर रहे हैं। सभी पर मनोरंजन एक्ट के तहत केस दर्ज किया गया है। अक्टूबर में हुए टी20 मैच के दौरान चंद सेकंड में ही आनलाइन टिकट बिक गए थे। टिकट बेचने वाली साइट क्रैश हो गई थी। वनडे मैच में ऐसा न हो इसके चलते पुलिस कमिश्नर हरीनारायण चारी मिश्र ने क्राइम ब्रांच को आदेश दिए थे। डीसीपी निमिष अग्रवाल ने इसमें टीमें बनाई भी बनाई थी। सोशल मीडिया के साथ टिकट ब्लैक करने वालों पर नजर रख रहे थे।