देवरिया में दो महीने के लिए धारा 144 लागू
देवरिया में दो महीने के लिए धारा 144 लागू

देवरिया में दो महीने के लिए धारा 144 लागू

देवरिया: देवरिया में अग्निपथ के विरोध को देखते हुए कानून और शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए पूरे जिले में दो महीने के लिए धारा 144 लगा दी गई है। जिले में धारा 144 अगले आदेश तक जारी रहेगी। अपर जिला मजिस्ट्रेट(प्रशासन) कुंवर पंकज ने बताया कि कोविड- 19 (कोरोना वायरस) वैश्विक महामारी से बचाव के लिए कोविड प्रोटोकाॅल का पालन कराने व विभिन्न परीक्षाओं के कुशल संपादन के लिए शासन के निर्देश के क्रम में तथा जनपद में कानून एवं शांति व्यवस्था कायम रखने के लिए धारा 144 को 15 जून तक लागू किया गया है।

वर्तमान समय में तिलकोत्सव, शादी-विवाह के कार्यक्रम आयोजित होने और विभिन्न संगठनों द्वारा धरना प्रदर्शन विशेष कर जुमे की नमाज के दौरान, जिसमें अत्यधिक भीड़ इकट्ठी होती है और प्रदर्शन किये जाने को सम्भावना रहती है। इससे कानून और शान्ति व्यवस्था प्रभावित होने की सम्भावना रहती है। आमजन के सुरक्षा और जिले में शांति व्यवस्था के मद्देनजर धारा 144 तत्काल प्रभाव से लागू की जा रही है।

अपर जिला मजिस्ट्रेट (प्रशासन) ने बताया कि जिले के सभी सार्वजनिक स्थलों पर मास्क का प्रयोग अनिवार्य रूप से पालन कराया जायेगा। जिन सार्वजनिक स्थलों पर ध्वनि विस्तारक यंत्र, लाउडस्पीकर आदि का प्रयोग किया जा रहा हो, उसकी आवाज धीमी और निर्धारित डेसिबल मानक के अनुसार रखी जायेगी। ताकि इससे अन्य किसी को कोई परेशानी न हो। जिले में कोई भी व्यक्ति किसी भी धार्मिक स्थल को न तो क्षति पहुंचाएगा और न ही ऐसा करने के लिए किसी को प्रेरित करेगा। जिले में कोई भी व्यक्ति किसी धर्म विशेष की भावनाओं को उद्वेलित करने या साम्प्रदायिक घृणा फैलाने का कार्य नहीं करेगा। यदि कोई भी व्यक्ति किसी प्रकार के धार्मिक उन्माद पैदा करने वाला संगीत न तो बजाएगा और न ही ध्वनि विस्तारक यंत्र से प्रसारित करेगा। यदि कोई भी व्यक्ति किसी भी प्रकार के धार्मिक उन्माद पैदा करने वाले पोस्टर चिपकाएगा तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। धारा 144 के जिले में प्रभावी रहने के दौरान कोई भी व्यक्ति अस्त्र-शस्त्र लेकर नहीं चलेगा और न ही किसी प्रकार का विस्फोटक पदार्थ अपने पास रखेगा। विशेष परिस्थितियों में जिला मजिस्ट्रेट, उप जिला मजिस्ट्रेट से अनुमति लेने के बाद ही कोई व्यक्ति लाइसेन्सी अस्त्र-शस्त्र लेकर चल सकेगा। यह प्रतिबन्ध सिख समुदाय के व्यक्तियों को कृपाण धारण करने, वृद्ध, दिव्यांग, बीमार अथवा अंधे व्यक्तियों के लाठी का प्रयोग करने पर लागू नहीं होगा।

See also  जिला प्रशासन और पुलिस ने हटवाया शेखपुरा से पोस्टर

जिले में कोई भी व्यक्ति स्वयं या किसी अन्य के घर की छत पर ईंट-पत्थर आदि एकत्र नहीं करेगा। कोई भी व्यक्ति न तो किसी प्रकार की अफवाह सोशल मीडिया के माध्यम से या अन्य किसी भी माध्यम से न तो प्रसारित करेगा और न ही किसी अन्य को ऐसा करने के लिए प्रेरित करेगा।
कोई भी व्यक्ति धार्मिक उन्माद पैदा करने वाले किसी प्रकार का SMS,MMS, वॉट्सएप्प मैसेज,ट्वीट न तो प्रसारित करेगा, न ही किसी अन्य को ऐसा करने के लिए प्रेरित करेगा। जिले में कोई भी व्यक्ति न तो किसी प्रकार की पंचायत,महापंचायत बुलायेगा और न ही इस प्रकार के किसी पंचायत में भाग लेगा। अगर इस तरह के किसी आदेश का उलंघन हुआ तो दोषियों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।