सभी नाले-नालियों की साफ-सफाई के दिये निर्देश: प्रमुख सचिव
सभी नाले-नालियों की साफ-सफाई के दिये निर्देश: प्रमुख सचिव

सभी नाले-नालियों की साफ-सफाई के दिये निर्देश: प्रमुख सचिव

-प्रमुख सचिव ने नाले-नालियों की सफाई का ड्रोन से की जा रही निगरानी का किया निरीक्षण
 -एक सप्ताह के भीतर शहर के सभी नाले-नालियों की साफ-सफाई के दिये निर्देश
-बरसात के दौरान कहीं पर भी जलभराव नहीं हो, इससे निपटने के सम्पूर्ण प्रबन्ध पूरे किये जायें-अमृत
लखनऊ 24 जून। उत्तर प्रदेश सरकार ने बरसात के दौरान शहरों में जलभराव की समस्या से निपटने के लिए मानसून से पहले ही नाले-नालियों की साफ-सफाई सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। साथ ही इसकी मॉनीटरिंग भी ड्रोन से करायी जाए  इसके निर्देश दिए हैं, जिससे की साफ-सफाई की हकीकत सामने आ सके। इसी बारे में शुक्रवार को प्रमुख सचिव नगर विकास अमृत अभिजात ने 5-कालीदास मार्ग, कैबिनेट गंज स्थित नाले की साफ-सफाई का ड्रोन के माध्यम से किये जा रहे सर्वे का मौके पर जाकर निरीक्षण किया। इस दौरान प्रमुख सचिव ने कहा कि लखनऊ शहर के सभी नाले-नालियों की साफ-सफाई एक सप्ताह के भीतर हो जाए और ड्रोन के माध्यम से की जा रही निगरानी की रिपोर्ट शासन को उपलब्ध करायी जाए। उन्होंने कहा कि नाले-नालियों में कहीं पर सिल्ट आदि जमा न हो यह सुनिश्चित किया जाए, जिससे कि बरसात के दौरान कहीं पर भी जलभराव की समस्या पैदा न हो। साथ ही सभी नाले-नालियों के चोक प्वाइंट को भी चेक कर लिया जाए तथा जलभराव की समस्या से निपटने के सम्पूर्ण प्रबंध भी समय से पूरे कर लिए जाए, जिससे जलभराव से लोगों को परेशानी का सामना न करान पड़े।वहीं,अमृत अभिजात ने सभी नगर आयुक्तों को निर्देशित किया कि एक सप्ताह के भीतर मानसून आने से पहले ही शहरों के सभी नाले-नालियों की साफ-सफाई पूरी तरह सुनिश्चित करायी जाए।           निरीक्षण के दौरान प्रमुख सचिव नगर विकास को बताया गया कि लखनऊ नगर निगम सीमा में 03 मीटर से अधिक चौड़े 88 बड़े नाले तथा 03 मीटर से कम चौड़े 536 मझोले नाले और 929 छोटे नाले आते हैं। इस प्रकार कुल 1553 नाले हैं, जिनसे लखनऊ शहर का पानी बाहर जाता है।

See also  यूपी : ठप्‍प ओपीडी सेवाओं को सशर्त शुरू करने की प्रदेश सरकार ने दी इजाजत, ये है गाइडलाइन