पुलिस की गुंडई आई सामने, राजस्व के मामले में भी दखल,पीड़ित ने लगाया न्याय की गुहार

बस्ती – थाना कप्तानगंज की पुलिस जहां गरीब एवं असहाय लोगों की रक्षा करने के लिए बनी है वहीं पुलिस गरीब एवं असहाय जनता की भक्षक भी बनते दिखी हाल ही में एक घटना ने पुलिस के ऊपर से विश्वास खत्म कर देने वाला कृत्य सामने आया गांव के एक गरीब असहाय व्यक्ति को पुलिस ने अपने वर्दी और डंडे के बल पर अपनी जमीन में रखें घूर को पुलिस खड़े होकर खुदवा कर फेकवाने का काम कर रही है। जब इसकी शिकायत पीड़ित व्यक्ति ने उच्च पुलिस अधिकारियों से की तो पुलिस वालो ने कहा मैं आपकी बात नहीं सुनूंगा ना ही मैं किसी के हुकुम का गुलाम हूं मैं अपने आदेशों का पालन करता हूं और उसी का पालन भी करवाता हूं। यदि आप मेरे कार्य में बाधा उत्पन्न करेंगे तो मैं आपको विभिन्न धाराओं में फंसा करके आपके और आपके पूरे परिवार की जिंदगी को तबाह बर्बाद कर दूंगा। पीड़ित परिवार धमकी सुनकर डर से सहम गया। मामला कप्तानगंज थाना क्षेत्र के अंतर्गत महाराजगंज पुलिस चौकी के भैरोपुर गांव का है जिसके चौकी इंचार्ज ललित कांत यादव हैं जो अपने दबंगई के बल पर अच्छे बुरे कार्य को कराने के लिए सुर्खियों में बने रहते हैं। इंचार्ज साहब हाल ही में भैरोपुर गांव में अपने हमराही सिपाही कौशल एवं अर्जुन यादव के साथ जाकर बिना किसी आदेश के अनवर की जमीन में रखें घूर को अपनी दबंगई के बल पर खड़े होकर गांव के चौकीदार राजू उर्फ राज मंगल तथा आसाराम के साथ, रखे घूर को हटवा दिया। जब इस बात की शिकायत अनवर ने चौकी इंचार्ज से की कि यह मेरी जमीन है मेरे बाप दादा के नाम दर्ज है और मेरे पास हाईकोर्ट का स्टे आदेश भी है। मेरे घूर को मत हटवाए लेकिन चौकी इंचार्ज आवेश में आकर पहले तो मां बहन की भद्दी भद्दी गाली दे डाली।फिर कागज को लेकर फेंकते हुए कहा कि यह सब कागजात मैं नहीं देखता जो मैं कर रहा हूं यह सही है तुमको जिसके यहां शिकायत करनी हो कर दीजिए मैं इससे डरने वाला नहीं हूं। इस घटना की शिकायत अनवर ने पहले तो फोन के माध्यम से शिकायत एसपी बस्ती को किया फिर इसकी लिखित शिकायत एसपी बस्ती डीएम एवं शासन प्रशासन को भी दिया और न्याय की गुहार लगाई। चौकी इंचार्ज सहित अन्य पुलिसकर्मियों के ऊपर शिकायतकर्ता ने गंभीर आरोप लगाया है हला की शिकायत जांच का विषय है |

See also  अमरूद तोड़ने के विवाद में मारपीट, पीडिता ने लगाया न्याय की गुहार