कटिहार :   महानंदा नदी से प्रभावित गांव के लोगों ने भले राहत की सांस ली हो परंतु आज भी उन लोगों की मुश्किलें कम होती नजर नहीं आ रही है। क्षेत्र में वर्षा हो अथवा ना हो परंतु नेपाल में बारिश शुरू होते ही महानंदा नदी में उफान आरंभ हो जाता है। नेपाल में होने वाली बारिश का असर यहां देखने को मिलता है। इसीलिए महानंदा नदी में पानी का उतार-चढ़ाव होते रहता है। इस बाबत आजमनगर प्रखंड के बाढ़ प्रभावित गांव के लोगों की मुसीबतें कम होती नजर नहीं आ रही है।

जानकारी के मुताबिक गुरूवार को सुबह 10 बजे तक महानंदा का जलस्तर करीब आठ सेंटीमीटर घटा है। यही स्थिति रही तो जलस्तर के और भी घटने की संभावना है। विभागीय सूत्रों के अनुसार महानंदा अभी भी डेंजर लेवल से उपर बह रही है। आजमनगर के अंचलाधिकारी संजय कुमार ने बताया कि प्रशासनिक ²ष्टिकोण से महानंदा नदी के जलस्तर पर नजर रखी जा रही है। पल पल का रिपोर्ट विभाग से समर्पित किया जा रहा है। बाढ़ से प्रभावित गांव के लोगों को सतर्कता बरतने के लिए कहा गया है। किसी भी प्रकार के अप्रिय घटना पर नजर रखने की सारी व्यवस्था विभागीय स्तर पर कर दी गई है।

विभागीय स्तर पर नाव की भी व्यवस्था रखी गई है। उधर दूसरी ओर इमामनगर शिवमंदिर टोला में महानंदा नदी का पानी गांव के नजदीक पहुंच चुका है। परंतु आवागमन चालू है। वहीं कर्मचारी हाफिजुर रहमान ने बताया कि शिव मंदिर टोला ईमामनगर में सरकारी नाव सहित निजी नाव की व्यवस्था कराई गई है।

See also  पद्म विभूषण स्वामी रामभद्राचार्य आ रहे