कॉलेज में वर्ग संचालन व्यवस्थित करना मेरी पहली प्राथमिकता: प्राचार्य

सीतामढ़ी। शहर स्थित एसएलके कॉलेज के प्राचार्य डॉ. अनिल कुमार सिन्हा ने कहा कि कॉलेज में वर्ग संचालन व्यवस्थित करना मेरी पहली प्राथमिकता है। वर्ग में विद्यार्थियों की उपस्थिति सुनिश्चित करने के लिए व्यापक स्तर पर योजना बनाई गई है एवं उसके लिए प्रयास प्रारंभ कर दिया गया है। वे प्राचार्य कक्ष में आयोजित पत्रकार सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे।

उन्होंने छात्र छात्राओं से वर्ग में उपस्थित होने की अपील करते हुए कहा कि कॉलेज में संचालित होने वाले वर्गों का विकल्प कोचिग या ट्यूशन नहीं है इसलिए बच्चों को कॉलेज में संचालित होने वाले वर्गों में उपस्थित होना चाहिए। कहा कि कॉलेज के भवन जर्जर हो चुके हैं जिसे ठीक करना, स्मार्ट क्लासेस का निर्माण एवं शिक्षक प्रकोष्ठ को नई तकनीक से जोड़ने के लिए प्रयास प्रारंभ कर दिया गया है। अनुसूचित जनजाति, पिछड़े वर्ग एवं आर्थिक रूप से पिछड़े छात्रों को प्रतियोगिता परीक्षा की तैयारी के लिए विशेष वर्ग संचालित किया जाएगा। नर्सरी टीचर ट्रेनिग की शुरुआत हो गई है।

नई शिक्षा नीति के तहत अधिक से अधिक वोकेशनल कोर्सेज प्रारंभ करने के लिए विश्वविद्यालय में आवेदन दे दिया गया है जिसमें बीबीए और मास कम्युनिकेशन कोर्स प्रमुख है। इसके लिए विश्वविद्यालय की सीसीडीसी से वार्ता हुई है। कंप्यूटर कोर्स में सर्टिफिकेट प्रोग्राम के लिए भी विश्वविद्यालय को लिखा गया है जिसकी अनुमति शीघ्र मिलने की संभावना है। कॉलेज की पर्याप्त जमीन होने के बावजूद कालेज भवन के अभाव से जूझ रहा है। इसके लिए नए भवन निर्माण के लिए बिहार विश्वविद्यालय के कुलपति से आग्रह किया जाएगा एवं उनको शिलान्यास के लिए आमंत्रित किया जाएगा।

मौके पर शिक्षक संघ के अध्यक्ष प्रो.सुजय कुमार, सचिव प्रो. ललन कुमार राय, कोषापाल प्रो.निखत फातिमा, प्रो. आशीष कुमार, प्रो. सुजय कुमार, प्रो.देवेंद्र प्रताप तिवारी, प्रो.चन्द्रभूषण,प्रो.दीपक प्रसाद, प्रो मृतुन्जय महासेठ,डॉ सुरेशचन्द्र, डॉ चंदन कुमार सिंह, प्रो. पंकज कुमार,प्रो अनामिका, प्रो स्वाति, प्रो संजय कुमार एवं प्रधान कार्यालय सहायक नागेंद्र प्रसाद भी उपस्थित थे।

See also  देवघर के पंडों ने किया था महात्‍मा गांधी का हिंसक विरोध