राज्य उपभोक्ता फोरम पहुंचा पूर्वोत्तर रेलवे प्रशासन

 -मथुरा के यात्री ने जिला उपभोक्ता फोरम से जीता मुकदमा
लखनऊ। पूर्वोत्तर रेलवे के बुकिंग क्लर्क ने एक यात्री से टिकट पर 20 रुपये ज्यादा ले लिया। यात्री ने जिला उपभोक्ता आयोग में 20 रुपये के लिए पीड़ित 22 साल से रेलवे से मोर्चा लिया। मामला 25 दिसंबर 2001 का है। मथुरा के होली गेट निवासी अधिवक्ता तुंगनाथ चतुवेर्दी को अपने साथी के साथ ट्रेन से मुरादाबाद जाना था। उन्होंने पूर्वोत्तर रेलवे के बुकिंग क्लर्क से दो टिकट लिए। प्रति टिकट 35 रुपये का था। उन्होंने बुकिंग क्लर्क को सौ रुपये दिए। पर, रेलकर्मी ने 70 रुपये काटने के बदले 90 रुपये काट लिए। अतिरिक्त रूप से काटे गए बीस रुपये उन्हें नहीं लौटाए। रेलयात्री ने जिला उपभोक्ता आयोग मथुरा में पूर्वोत्तर रेलवे व बुकिंग क्लर्क के खिलाफ मामला दर्ज कराया। 21 साल तक मामला चला और गत पांच अगस्त 2022 को रेलयात्री के पक्ष में फैसला सुनाया गया था। पूर्वोत्तर रेलवे के सीपीआरओ पंकज कुमार सिंह ने बताया कि ऐसे मामलों के लिए रेलवे का क्लेम ट्रिब्यूनल है। जहां यात्री आवेदन देकर किराए की नियमानुसार वापसी ले सकता था। रेलवे इस निर्णय के खिलाफ राज्य उपभोक्ता आयोग लखनऊ में अपील की है। तथ्यों को देखते हुए जिला उपभोक्ता आयोग मथुरा के आदेश पर स्टे मिल गया है और प्रतिवादी को नोटिस जारी की गई है।

See also  आफ़त की बारिश: बारिश से धान की फसल खराब, सब्जियों पर भी असर