पुरानी सड़कों की सामग्री से बनेगी नई सड़कें

-प्राकृतिक खनिज, पत्थर, मौरंग और स्क्रीनिंग सामग्री आदि की होगी बचत
लखनऊ। गन्ना विकास विभाग द्वारा बनाई जाने वाली सड़कों के निर्माण के लिये नई टेक्नोलाजी पर विस्तृत प्रस्तुतीकरण, रिटगन इन्डिया प्रा. लिमिटेड  ग्रुप के प्रतिनिधि चक्रपाणि शेखावत द्वारा अपर मुख्य सचिव, चीनी उद्योग एवं गन्ना विकास विभाग संजय आर. भूसरेड्डी जी के समक्ष बुधवार को गन्ना आयुक्त कार्यालय के सभाकक्ष में किया गया। प्रस्तुतीकरण के सम्बन्ध में विस्तृत जानकारी देते हुए अपर मुख्य सचिव संजय आर. भूसरेड्डी ने बताया कि इस नवीन तकनीक ष्थ्ण्क्ण्त्ण्ष् के प्रयोग से ग्रामीण सम्पर्क मार्गों में पूर्व में प्रयुक्त सामग्री को ही रिसाइकिल कर नई सड़क का निर्माण किया जाएगा। उन्होने बताया कि इस तकनीक के प्रयोग से सड़कों के पुनर्निर्माण में प्रयुक्त होने वाले पत्थर, मौरंग व अन्य खदानों से आने वाली सामग्री की आवश्यकता नहीं होगी, जिससे प्राकृतिक खनिजों की बचत होगी फलत: उस पर होने वाले व्यय में भी कमी आयेगी।
श्री भूसरेड्डी ने यह भी बताया कि इस प्रक्रिया के माध्यम से पर्यावरण प्रदूषण को भी कम किया जा सकेगा। इस नई तकनीक से बनने वाली सड़कें पराम्परागत सड़कों से अधिक मजबूत होगी एवं उनकी भार वहन भी अधिक होगी। नई तकनीक से बनने वाली सड़कों में निर्माण में समय भी कम लगेगा। इस तकनीक से बनने वाली सड़कों का समस्त कार्य चॅूकि मशीनों से होगा इसलिए उनकी गुणवत्ता उच्च कोटि की होगी।
इस तकनीक में पहले विशेष प्रकार की हाईटेक मशीनें पुरानी सड़कों को खोदेंगी फिर नये तरीके से खुदाई में प्राप्त सामग्री का प्रयोग कर नई सड़कों का निर्माण कार्य शुरू करेंगी। अपर मुख्य सचिव ने बताया कि इस तकनीक के दूरगामी एवं सफल परिणाम सामने आएगे तथा सड़क निर्माण के क्षेत्र में यह तकनीक नई क्रान्ति लेकर आएगी। इस तकनीक के प्रयोग से चीनी मिलों को गन्ना आपूर्ति करने वाले ग्रामीण इलाकों के कृषकों को सहूलियत मिलेगी। यह सड़कें परम्परागत सड़कों की अपेक्षा जल प्रतिरोधी भी है। इन सड़कों के निर्माण के दौरान कार्बन उर्त्सजन में कमी होने से पर्यावरण संरक्षण को भी बढ़ावा मिलेगा। प्रस्तुतीकरण के समय अपर गन्ना आयुक्त (प्रशासन) डा. रूपेश कुमार, प्रबन्ध निदेशक, उ.प्र. सहकारी चीनी मिल्स संघ लिमिटेड रमाकान्त पाण्डेय, अपर गन्ना आयुक्त (विकास) श्री वी.के. शुक्ल, अपर गन्ना आयुक्त (समितियॉ) वी.बी. सिंह, संयुक्त गन्ना आयुक्त विश्वेश कनौजिया, निर्माण शाखा के कार्यवाहक मुख्य अभियन्ता अरूण कुमार यादव और अन्य वरिष्ठ अधिकारी तथा अभियन्ता भी उपस्थित थे।

See also  एटीएस ने पिथौरागढ़ से आईएसआई एजेंट को किया गिरफ्तार