सद्ज्ञान से मनुष्य बन सक ता है नर से नारायण - उमानंद 
सद्ज्ञान से मनुष्य बन सक ता है नर से नारायण - उमानंद 

सद्ज्ञान से मनुष्य बन सक ता है नर से नारायण – उमानंद 

लखनऊ। राजधानी के गायत्री ज्ञान मंदिर विचार क्रान्ति ज्ञान यज्ञ अभियान  के द्वारा गुरूवार को कानपुर रोड के जीएसआरएम मेमोरियल कालेज आॅफ नर्सिगं के केन्द्रीय पुस्तकालय में गायत्री परिवार के संस्थापक युगऋषि पं. श्रीराम शर्मा द्वारा रचित सम्पूर्ण 79 खण्डों का 376वाँ ऋषि वांड़मय की स्थापना कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जिसमें गायत्री मंदिर इन्दिरा नगर के सक्रिय कार्यकर्ता श्री हंस ने अपने पूर्वजों की स्मृति में उमानंद शर्मा ने उपस्थित छात्र-छात्राओं एवं संकाय सदस्यों को अखण्ड ज्योति पत्रिका भेंट की।

वाङ्मय स्थापना अभियान के दौरान मुख्य संयोजक उमानंद शर्मा ने कहा कि ऋषि का सद्ज्ञान मनुष्य को नर से नारायण बना सकता है। हर जीवन जागृत आत्मा को ज्ञान यज्ञ के क्षेत्र में पुरुषार्थ करना चाहिये।वहीं पीडब्लूडी के पूर्व ईएनसी वीके श्रीवास्तव संस्था के निदेशक डॉ. एसके सिंह ने भी अपने विचार व्यक्त किये तथा प्रधानाचार्या डॉ.लुबना ने सभी का आभार व्यक्त किया । कार्यक्रम में उमानंद शर्मा,वीके श्रीवास्तव,श्रीहंस,डॉ.एसके सिंह,डॉ.दीपक शर्मा,पीजी कालेज प्रधानाचार्य,डॉ.लुबना सहित छात्र-छात्रायें औश्र संकाय सदस्य मौके पर मौजूद रहे।

See also  उत्‍तर प्रदेश में मानसून ने दी दस्‍तक, कई जिलों में झमाझम बारिश