विधायक ने विद्यालय खुलते ही लिया स्थिति का जायजा

कैमूर। सरकार द्वारा शिक्षण संस्थाओं को खोलने की अनुमति मिलने के बाद स्थानीय विधायक सुधाकर सिंह ने कई विद्यालयों में पहुंच कर स्थिति का जायजा लिया। सबसे पहले वे प्रखंड में बन रहे एकमात्र डिग्री कॉलेज लोहिया जगदेव डिग्री कॉलेज पहुंचे। जहां उन्होंने कॉलेज के कार्यों की प्रगति की जानकारी ली।

 

यहां उन्होंने कॉलेज का भवन बनाने के लिए 14 लाख रुपये मुख्यमंत्री क्षेत्र विकास निधि से दिया। इसके बाद वे बालिका उच्च विद्यालय पहुंचे। वहां की विधि व्यवस्था से काफी संतुष्ट नजर आए। बालिका उच्च विद्यालय के बेहतर परिणाम को देखते हुए इंटरमीडिएट की पढ़ाई प्रारंभ करने की अनुमति हेतु सरकार को पत्र लिखे जाने की जानकारी दी।

 

ऊपरी तल पर दो रूम और ऑफिस बनाने के लिए कर्मियों से प्रस्ताव तैयार करने के लिए बोला गया है इसकी जो भी लागत आएगी मुख्यमंत्री क्षेत्र विकास निधि से दिया जाएगा। वैसे अनुमान है कि कुल लागत करीब 20 लाख रुपए आएगी। इसके बाद विधायक जायसवाल प्लस टू हाई स्कूल पहुंचे। वहां की व्यवस्था देखकर विधायक बिफर पड़े। यहां कार्यरत कुल 12 शिक्षकों में से 8 शिक्षक अनुपस्थित मिले। आश्चर्य की बात तो यह रही कि अनुपस्थित 8 शिक्षकों में केवल 3 का आवेदन था, बाकी 5 लोग बिना आवेदन के हीं अनुपस्थित थे।

विधायक ने जिला शिक्षा पदाधिकारी को अनुपस्थित शिक्षकों के विरुद्ध आवश्यक कार्रवाई हेतु पत्र लिखा तथा कहा कि विद्यालय के प्रधानाध्यापक किस आधार पर एक साथ इतने शिक्षकों को अवकाश दे दिए वह भी उस स्थिति में जब शिक्षकों के अभाव में विद्यालय का पठन पाठन 12 बजे हीं बंद कर दिया गया। इसमें प्रधानाध्यापक की मिलीभगत भी प्रतीत होती है। विधायक ने कहा कि कोरोना काल में वैसे हीं बच्चों की पढ़ाई बाधित है, और जब विद्यालय खुला तो इस ढंग की कार्यप्रणाली यह स्वीकार्य नहीं है। उनके साथ हारून अंसारी, ओम हरि तिवारी, दीपक यादव, बेचन लाल श्रीवास्तव आदि थे।

See also  लागू हुई कोरोना गाइडलाइन, प्रशासन सख्त