तालाबों से मिट्टी का खनन

कैमूर: तालाबों से अवैध मिट्टी खनन के खिलाफ काफी सख्त हैं। वे क्षेत्र भ्रमण कर जगह जगह अवैध खनन की स्थिति की जानकारी ले रहे हैं तथा जहां कहीं ऐसी स्थिति मिल रही है कार्रवाई कर रहे हैं। लेकिन चोरी छिपे सरकारी भूमि व तालाबों से मिट्टी का खनन धड़ल्ले से हो रहा है। सीओ ने बताया कि बीते शनिवार को प्रखंड के गैरा गांव के तालाब से अवैध मिट्टी का खनन करते हुए दो जेसीबी और 14 ट्रैक्टरों को जब्त करते हुए खनन विभाग के सहयोग से स्थानीय थाना में प्राथमिकी दर्ज कराई गई। इसके बाद प्रखंड के अकोल्ही गांव के तालाब से भी खनन करने की सूचना मिली। मौके पर पहुंचने पर वहां कुछ नहीं मिला।

जबकि तालाब से काफी दूरी मिट्टी निकाली गई है। स्थानीय ग्रामीणों से कहा गया है कि अवैध खनन करने वालों की पहचान कराने में सहयोग करें। जैसे हीं कोई तालाब से मिट्टी खोदने के लिए आ रहा है तो तुरंत सूचित करें। इसी तरह जिले के सबसे बड़े तालाबों में शुमार प्रखंड के दरौली स्थित तालाब से भी करीब एक हजार ट्राली के आसपास मिट्टी निकाली गई है। बता दें कि शनिवार को प्रखंड के गैरा स्थित तालाब से मिट्टी का अवैध खनन करते हुए सीओ बद्री प्रसाद गुप्ता द्वारा दो जेसीबी और 14 ट्रैक्टरों को जब्त किया गया था।

जबकि चालक और मालिक मौके से भागने में सफल रहे। खनन विभाग द्वारा ट्रैक्टरों और जेसीबी के चेसिस नंबर के आधार पर स्थानीय थाना में प्राथमिकी दर्ज कराई गई। लेकिन अभी तक ये सभी मालिक और ड्राइवर पुलिस की गिरफ्त से बाहर हैं। इस संबंध में थानाध्यक्ष सुनीत कुमार सिंह ने बताया कि बीते चार दिनों से नेट बंद रहने के कारण कुछ परेशानी हुई।

See also  गठन व प्रभार में बाधा बने लोगों पर कसेगा कानून का शिकंजा