बगैर नल का जल गिरे ही इओ ने संवेदक को किया लाखो का भूगतान, एक वर्ष में ही जीर्णशीर्ण अवस्था मे पहुचा जलमीनार

नप क्षेत्र में शोभा की वस्तु बन रही मुख्यमंत्री का महत्वाकांक्षी योजना नल जल 
बिक्रमगंज, रोहतास। 27 वार्डो वाला नगर परिषद बिक्रमगंज के विभिन्न वार्डो में बना जलमीनार इन दिनों शोभा की बस्तु बने नजर आ रहा है। कही नल से जल कभीकभार उगल रहा है तो कही एक बूंद भी जल नही टपक रहा है। सात निश्चय योजनाओं में शामिल मुख्यमंत्री की यह महत्वकांक्षी योजना अधिकारियों, कर्मचारियों व संवेदकों के लिए लूटखसोट का पर्याय बन गया। एक ऐसे ही मामला नगर के वार्ड संख्या सात में प्रकाश में आया है ।जहां नल जल योजना का जल मीनार शोभा की वस्तु बन कर रह गया है। इस संबंध में वार्ड के नागरिको का कहना है कि संवेदक के द्वारा जब यहां नल का जल उपलब्ध कराने के लिए कार्य का शुरुआत किया गया तो स्थानीय लोगों में काफी खुशी का माहौल था कि पहली बार घर घर नल का जल नसीब होगा।

लेकिन आलम यह है कि धरातल पर नल जल का कार्य पूरा होने के बजाय कागजों में सिमटा हुआ नजर आ रहा है। इतना ही नहीं करीब 1 साल से यहां जल मीनार बन कर तैयार है और जल मीनार की छतों में दरारे भी पड़ चुकी है। जिससे जल मीनार के इर्द-गिर्द रहने वाले लोगों के साथ कभी भी कोई बड़ा हादसा हो सकता है। वार्ड पार्षद लल्लन प्रसाद चौरसिया ने संवेदक पर गंभीर आरोप लगाते हुए बताया कि नगर परिषद बिक्रमगंज के वार्ड संख्या सात में मुख्यमंत्री का महत्वाकांक्षी योजना नल जल में भारी पैमाने पर लूट खसोट किया गया है।

See also  किसानों को दिया गया मृदा स्वास्थ्य कार्ड

संवेदक के द्वारा ना तो इस वार्ड में पूर्ण रूप से कार्य को अमलीजामा पहनाया गया और न ही आज तक नल जल योजना का एक बूंद पानी भी नसीब कराया गया।वार्ड पार्षद ने बताया कि इस संबंध में दिनांक 17 अप्रैल 2021 को तत्कालीन कार्यपालक पदाधिकारी प्रेम स्वरूपम के व्हाट्सएप पर इस नल जल की योजना की स्थिति से अवगत कराते हुए भुगतान पर रोक लगाने का भी आग्रह किया गया था। लेकिन इसके बावजूद भी सभी नियमों को ताक पर रखते हुए तत्कालीन कार्यपालक पदाधिकारी प्रेम स्वरूपम की मिलीभगत से भारी पैमाने पर कमीशनखोरी का खेल खेलते हुए करीब 25 लाख रुपए का भुगतान भी कर दिया गया है।

लेकिन आज तक वार्ड संख्या सात के लोगों को एक बूंद इस नल का जल भी नसीब नहीं हुआ।जानकारी के लिए इओ से सम्पर्क किया गया तो वह जवाब देने से कतराते नजर आए। वार्ड पार्षद ने इसकी उच्च स्तरीय जांच कर तत्कालीन संलिप्त लोगो पर कार्रवाई की मांग किया है।हालांकि यह मामला किसी एक में ही नही है बल्कि अन्य कई वार्डो में भी है जहां घटिया निर्माण कार्य के कारण नल का जल महीनों से नही उगल रहा है।इसी तरह का आरोप वार्ड नम्बर आठ के भी नागरिको ने लगाया है।