टेंडर फार्म बेचने के बजाए कर्मचारी ताला बंद कर गायब

भदोही । ग्रामीण अभियंत्रण विभाग में टेंडर फार्म बेचने के बजाए कर्मचारी ताला बंद कर गायब रहे। सीडीओ के निरीक्षण में पोल खुली तो जिलाधिकारी आर्यका अखौरी ने शिकंजा कस दिया। अवकाश के दिन रविवार को भी विभाग का ताला खुला रहा। अधिकारियों के खास रहे कैशियर खुद फार्म बेचते रहे तो कलेक्ट्रेट में भी एक कर्मचारी मुस्तैद रहा। यहां पर किस फर्म के नाम फार्म बेचा जा रहा था इसकी मानीटरिग खुद कैशियर कर रहा था। उसका मोबाइल फोन लगातार घनघना रहा था।

अभियंत्रण विभाग में इंटरलाकिग कार्य के लिए निविदा निकाली गई थी। विभाग के अधिकारी अपने खास लोगों को काम देने के लिए टेंडर फार्म नहीं बेच रहे थे। सीडीओ को इसकी शिकायत मिली तो उन्होंने जांच कर रिपोर्ट डीएम को भेजी थी। डीएम ने तिथि बढ़ाते हुए सोमवार को दो बजे के बाद खोलने का निर्देश दिया। रविवार को समय मिलने के बाद कई ठेकेदार फार्म लेने के लिए विभाग में पहुंचे। डीएम के सख्ती के बाद भी कार्यालय के आसपास दिग्गज लोग डटे रहे। वह लगातार ठेकेदारों पर नजर रखे हुए थे। बगैर उनके अनुमति कोई फार्म लेने के लिए कार्यालय में प्रवेश नहीं करने पा रहा था। यही नजारा कलेक्ट्रेट में भी देखा गया। मुस्तैद कर्मचारी भी उनके हरी झंडी का इंतजार कर रहे थे। एक ठेकेदार ने बताया कि कैशियर का ट्रांसफर प्रतापगढ़ हो गया है। माननीयों के दबाव में अधिकारी उसे रिलीव नहीं कर रहे हैं। माना जा रहा है कि यदि वह जिले से मुक्त हो जाएगा तो पूरी योजना फेल हो जाएगी।

See also  सरकार आपकी सुविधा के लिए ऋण उपलब्ध कराने को तैयार