आशा बहुओं, आंगनबाड़ी कार्यकत्री, स्वास्थ्य सखियों को दिया गया प्रशिक्षण

चरखारी से ब्रजेश द्विवेदी की रिपोर्ट।

शिशुओंकी सुरक्षा हेतु दिया गया त्वरित उपचार हेतु प्रशिक्षण
चरखारी (महोबा) सीएचसी स्थित मेंटरनिटि बिंग सेंटर में आयोजित प्रशिक्षण में राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के अन्तर्गत पांच दिवसीय छोटे बच्चों के गृह आधारित देखभाल करने हेतु होम वेस्ट फार केयर,यंग चाईल्ड ,(एचबीबाई सी)प्रशिक्षण तीसरे दिन‌ महिला चिकित्सा अधिकारी डॉ एकता बरसैंया ने आशा,बहु एएनएम व आंगनबाडी को प्रशिक्षण के दौरान कहा कि छोटे बच्चों की गृह आधारित देखभाल आशा की हैंडबुक, के माध्यम से बना कर दे। वही उन्होंने एएनएम व आंगनबाडी आशा बहुओं,
छोटे बच्चों की जीवन गतिविधियां में बताया कि स्वास्थ्य एवं पोषण से सम्बंधित बच्चों के जीवन के पहले दो वर्ष आरम्भिक बाल विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं बच्चे जो भी सीखते हैं वो जीवन के इन्हीं शुरुआती बरसों में सीखतें है।
बच्चों के साथ खेलना, संवाद करना, बातचीत करना और मुस्कुराना, बच्चों के साथ जो भी संवाद किया गया, उसकी उचित प्रकिया देना, उदाहरण भूख दर्द और परेशानी किसी चीज में रुचि मामता या स्नेह दिखाना, होगा।
चिकित्सा अधीक्षक डॉ राजेश कुमार वर्मा ने बच्चों के स्वास्थ्य देखभाल के जीवन सुरक्षा के त्वरित प्राथमिक उपचार हेतु प्रशिक्षण दिया गया।
इस मौके पर बीसीपीएम मनीषी पटैरिया, आशुतोष चौबे, सोशल वर्कर प्रदीप कुमार, रमाकांती, राधादेवी,सरोज सेन, गीता प्रमिला आदि आशावहु, एएनएम, आदि मौजूद रही‌।

See also  खत्म हो जायेंगी 2300 मदरसों की मान्यता...