अनधिकृत ढाबों पर बसें रुकी तो नपेंगे चालक-परिचालक

-एमडी परिवहन निगम हुए सख्त, दिये आर्थिक दंडात्मक कार्रवाई के निर्देश
लखनऊ। किसी भी मार्ग पर बने अनधिकृत ढाबे पर किसी भी स्थिति में कोई भी रोडवेज या अनुबंधित बस रुकने न पाये। इसकी नियमित और सघन चेकिंग करायी जाये। ऐसे चालक-परिचालक जो इस प्रकार के अनधिकृत ढाबों या फिर होटलों पर बसों को खड़ा करते पाये जायेंगे उनके खिलाफ क्रमवार दंडात्मक कार्रवाई की जायेगी। इसके तहत पहली बार पकड़े जाने पर दो हजार रुपये अर्थदंड, दोबारा ऐसा करने पर उनकी संविदा समाप्त की जायेगी जबकि नियमित चालक और परिचालकों को निलंबित कर नियमानुसार कार्रवाई की जायेगी। यह निर्देश मंगलवार को यूपी रोडवेज के एमडी आरपी सिंह ने परिवहन निगम के समस्त क्षेत्रीय प्रबन्धक और समस्त सहायक क्षेत्रीय प्रबन्धक (डिपो) को दिये। एमडी निगम ने कहा कि ढाबों पर यात्रियों के खान-पान के लिये बैठने की व्यवस्था, स्वच्छ पेयजल, यात्रियों के बैठने के स्थान पर सीलिंग फैन, महिला शौचालय पुरूष शौचालय वॉशबेसिन और टॉवेल, साबुन की उपलब्धता व जनरेटर आदि की व्यवस्था हो। इसके अलावा ढाबों में खान-पान की गुणवत्ता, रेट चार्ट और उच्च कोटि की सफाई की व्यवस्था ढाबा स्वामियों द्वारा कराया जाना आवश्यक होगा।

बाक्स-:
अवैध ठहराव मिला तो आरएम-एआरएम भी कार्रवाई की जद में…!
क्षेत्र के अधीन संचालित ढाबों का क्षेत्रीय प्रबन्धक माह में एक बार तथा सहायक क्षेत्रीय प्रबन्धक, डिपो द्वारा हर 15 दिनों में निरीक्षण सुनिश्चित किया जायेगा। और इसकी अनुपालन आख्या प्रत्येक माह निरीक्षणकर्ता द्वारा रिपोर्ट मुख्यालय प्रेषित की जायेगी। एमडी निगम ने आगे निर्देशित करते हुए कहा कि विभिन्न मार्गों पर उत्तर प्रदेश परिवहन निगम द्वारा अनुबंधित ढाबों का मुख्यालय या क्षेत्र से सम्बद्ध सभी यातायात अधीक्षको-निरीक्षकों द्वारा बसों के निरीक्षण के साथ-साथ मार्ग पर पड़ने वाले ढाबों का भी निरीक्षण निगम द्वारा निर्धारित मानकों के आधार पर किया जायेगा। इस दौरान निरीक्षण के समय पायी गयी कमियों का स्पष्ट उल्लेख करते हुए रिपोर्ट सीधे प्रधान प्रबन्धक(संचालन) को आवश्यक कार्रवाई के लिये प्रस्तुत की जायेगी। प्रबंध निदेशक ने इसी क्रम में कहा कि यदि किसी डिपो या क्षेत्र में बसों के अवैध ठहराव संबंधी प्रकरण प्राप्त होते हैं तो अनधिकृत ठहराव जिस डिपो के क्षेत्राधिकार में होगा, उस डिपो के सहायक क्षेत्रीय प्रबन्धक तथा सम्बन्धित क्षेत्र के क्षेत्रीय प्रबन्धक के विरूद्ध कार्रवाई की जायेगी।

See also  योगी सरकार ने टैबलेट और स्‍मार्टफोन को लेकर फैलाई जा रही भ्रांतियों का किया खंडन