वार्ड ब्वॉय,फार्मासिस्ट के भरोसे चल रहा अस्पताल
वार्ड ब्वॉय,फार्मासिस्ट के भरोसे चल रहा अस्पताल

वार्ड ब्वॉय,फार्मासिस्ट के भरोसे चल रहा अस्पताल

देवरिया: आयुर्वेद इस देश की अति प्राचीन पद्धति है, लेकिन देवरिया जिला मुख्यालय पर आयुर्वेद चिकित्सालय का बुरा हाल है। जिला मुख्यालय पर से दो किमी की दूरी पर स्थित चटनी गड़ही में 25 शैय्या का आयुर्वेदिक हॉस्पिटल है। यह हॉस्पिटल किराये के मकान में संचालित है। बोर्ड के अलावा देखने पर लगता ही नहीं कि यह अस्पताल है।

यह अस्पताल 25 शैय्या का है, लेकिन 2 बेड पर गद्दे लगे थे। एक बेड पर न चादर और न ही गद्दा लगा मिला। एक कमरा दवा के गत्ते से भरा था। पूछने पर फार्मासिस्ट ने बताया कि कोरोना पीरियड में ये स्टाक आया था, तब से यहीं रखा है। शेष 22 बेड कहां हैं, इस सवाल पर कहा कि कंडम हो गए थे। इसलिए हटा दिया गया।

हॉस्पिटल में ग्यारह स्टाफ की नियुक्ति है। उसके सापेक्ष छह स्वस्थ्य कर्मी ही मौजूद मिले। प्रभारी चिकित्साधिकारी आकांक्षा गुप्ता छुट्टी पर थीं। एक नर्स और वार्ड ब्वाय भी छुट्टी पर थे। दूसरे डॉ. ज्ञानचंद मौर्य दूसरे अस्पताल से अटैच कर दिए गए हैं।

सफाई कर्मी संजय गौतम डेढ़ घण्टे देर से आने के बाद भी सफाई करने के बजाय खाली डिब्बों में गोलियां भर रहा था। पूछने पर फार्मासिस्ट श्री प्रकाश मल्ल ने बताया कि थोड़ा सहयोग ले लिया जाता है।

जिला आयुर्वेद और युनानी अधिकारी डॉ. दिनेश चौरसिया ने बताया, एक डॉक्टर को दूसरे अस्पताल में अटैच किया गया है। बिस्तर की खरीद हो गई है। जल्दी ही लगवा दिया जाएगा। अगस्त पार में अस्पताल के लिए जमीन मिल गई है। शीघ्र शासन द्वारा भवन बनवाया जाएगा। आयुष कीट चुनाव कर्मियों को देने के लिए आई थी। वितरण नहीं हो पाया है। यहां जगह नहीं होने से, वहीं रखवा दिया गया है। गाइडलाइन मिलते ही वितरित कर दिया जाएगा।

See also  स्कॉर्पियो चुराकर भाग रहे बदमाशों ने तीन लोगों को कुचला,एक की मौत