भभुआ में स्वस्थ्य शिशु की ऑपरेशन के दौरान मौत

परिजनों के रोने-बिलखने पर संचालक एवं तथाकथित डॉक्टर क्लिनिक से घंटों हुए फरार
फर्जीवाड़े सभी क्लिनिकों की होगी जांच- प्रभारी सीएस
कैमूर। जिला मुख्यालय में इन दिनों धड़ल्ले से बिना परमिशन निजी क्लीनिक में ऑपरेशन सहित लिंग परीक्षण के पश्चात भ्रूण हत्या कराए जाने की चर्चा जोरों पर है। इन फर्जीवाड़े क्लिनिकों की हौसले इतने बुलंद है की जिला जज निवास के ठीक सामने मां मुंडेश्वरी हॉस्पिटल की बोर्ड लगाकर मानक के विपरीत ऑपरेशन थिएटर बनाकर ऑपरेशन कर दिया जाता है। इस ऑपरेशन थिएटर में संसाधनों की घोर अभाव है बावजूद इसके मरीजों के जान की परवाह किए बगैर ऑपरेशन किया जाता है। जिसके दौरान कई जच्चा-बच्चा की जाने जा चुकी है। इसी सिलसिले में शुक्रवार को एक जागे वरांव निवासी एक गर्भवती महिला को मुड़ी गांव निवासी आशा कर्मी अपनी कमीशन के लिए उसे बहका कर उक्त प्राइवेट क्लीनिक पर लाया गया।

जहां ऑपरेशन के दौरान बच्चे की मृत्यु हो गई जबकि जांच के दौरान बच्चा स्वस्थ बताया गया था। ज्ञात हो कि इस घटना के बाद परिजनों की चित्कार एवं भभुआ- चैनपुर पथ पर रोने- बिलख की माजरा देखकर क्लिनिक संचालक एवं ऑपरेशन करने वाले तथाकथित डॉक्टर क्लिनिक से फरार हो गए। इस संबंध में पूछे जाने पर क्लनिक संचालक डॉ संतोष कुमार बीएएमएस ने बताया कि मैं अपने निजी कामों से चंदौली चला आया हूं एक घंटे बाद आकर मीडिया से मुखातिब होकर बातें करूंगा किंतु जब उनसे भेंट के पश्चात वार्ता हूआ तो उन्होंने स्वास्थ्य विभाग से क्लीनिक चलाने की मिलने की बात बताया लेकिन अनुमति की कॉपी दिखाए जाने के सवाल पर उन्होंने क्लिनिक शिफ्ट के दौरान इधर-उधर रखा जाने की बात कह कर अगले दिन दिखाने का हवाला देकर टाल दिया।

See also  हवाई सेवा शुरू करने की मांग उफान पर

किंतु पुनः जब उनसे दूरभाष पर बातें हुई तो उन्होंने कहा कि मैं सीएस कैमूर को सारी कागजात दिखाऊंगा। कारण कि मीडिया कर्मियों सीएस नहीं होते हैं, इसलिए मुझे मीडिया कर्मी से कोई लेना देना नहीं है। उधर प्रभारी सीएस कैमूर डॉ जितेंद्र नाथ सिंह से पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि मामले को गंभीरता से लेते हुए जिला मुख्यालय सहित सभी प्रखंडों में चल रहे फर्जीवाड़े क्लिनिकों की जांच करने का आदेश दिया जा चुका है। जांच के बाद उन सभी फर्जीवाड़े क्लिनिकों पर कठोर कार्रवाई की जाएगी। बहरहाल मामला चाहे जो हो लेकिन उक्त स्वास्थ्य नवजात शिशु की मौत का जिम्मेदार कौन होगा यह यक्ष प्रश्न बनकर खड़ा है।