पूर्वी उप्र का पहला मेंटर इंस्टीट्यूट बना गुरु श्री गोरक्षनाथ कॉलेज ऑफ नर्सिंग*

गोरखपुर। नर्सिंग शिक्षण एवं प्रशिक्षण के क्षेत्र में विशिष्ट पहचान बनाने वाले गुरु श्री गोरक्षनाथ कॉलेज ऑफ नर्सिंग के खाते में एक नायाब उपलब्धि जुड़ गई है। महायोगी गोरखनाथ विश्वविद्यालय से संबद्ध इस नर्सिंग कॉलेज को उत्तर प्रदेश स्टेट मेडिकल फैकल्टी ने मेंटर इंस्टीट्यूट घोषित किया है। मेंटर इंस्टीट्यूट घोषित होने से गुरु श्री गोरक्षनाथ कॉलेज ऑफ नर्सिंग राष्ट्रीय शिक्षा नीति की मंशा के अनुरूप गुणवत्तापूर्ण शिक्षण और प्रशिक्षण के लिए पूर्वी उत्तर प्रदेश के अन्य नर्सिंग कॉलेजों/संस्थानों के लिए पथ प्रदर्शक व परामर्शदाता की भूमिका का निर्वहन करेगा।

नर्सिंग क्षेत्र को चिकित्सा एवं स्वास्थ्य तंत्र की आधारशिला समझा जाता है। इस क्षेत्र में गुणवत्ता सुधार और सुदृढ़ीकरण के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ लगातार प्रयास कर रहे हैं। इसी सिलसिले को आगे बढ़ाते हुए प्रदेश में नर्सिंग शिक्षण-प्रशिक्षण संस्थानों में संसाधन से लेकर योग्य फैकल्टी की उपलब्धता तथा समग्र रूप में नर्सिंग क्षेत्र की गुणवत्ता में सुधार के लिए उत्तर प्रदेश स्टेट मेडिकल फैकल्टी द्वारा राज्य के 12 नर्सिंग कॉलेजों/संस्थानो को मेंटर इंस्टीट्यूट के रूप में चयनित किया गया है। इनमें से लखनऊ और गोंडा के एक-एक कॉलेजों के बाद शेष समूचे उत्तर प्रदेश में मेंटर इंस्टीट्यूट के रूप में एकमात्र गुरु श्री गोरक्षनाथ कॉलेज ऑफ नर्सिंग का चयन किया गया है। मेंटर के रूप में उन नर्सिंग कॉलेजों को चुना गया है जो इंडियन नर्सिंग काउंसिल और उत्तर प्रदेश स्टेट मेडिकल फैकल्टी द्वारा तय सभी मानकों पर खरे उतरे हैं। स्टेट मेडिकल फैकल्टी से आए विशेषज्ञों द्वारा संसाधन, तकनीकी, शैक्षणिक स्टाफ आदि के गहन एवं कड़े परीक्षण के बाद गुरु श्री गोरक्षनाथ कॉलेज ऑफ नर्सिंग को मेंटर इंस्टीट्यूट के रूप में चयनित किया गया है।

See also  लोकनायक तुलसीदास के नाट्य मंचन में कलाकारों का पूजन सराहनीय- डॉ. धर्मेंद्र*

मेंटर के रूप में गुरु श्री गोरक्षनाथ कॉलेज ऑफ नर्सिंग गोरखपुर समेत पूर्वी उत्तर के कई जनपदों में संचालित नर्सिंग कॉलेजों/संस्थानों का पर्यवेक्षण करते हुए उनके गुणवत्ता संवर्धन हेतु परामर्श देगा ताकि पूरे देश के लिए योग्य नर्सिंग स्टाफ तैयार किए जा सकें। नर्सिंग शिक्षा की मॉनिटरिंग के लिए एक तरह से उसकी भूमिका उत्तर प्रदेश स्टेट मेडिकल फैकल्टी के साझेदार के रूप में होगी। इस उपलब्धि पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए गुरु श्री गोरक्षनाथ कॉलेज ऑफ नर्सिंग की प्राचार्या डॉ डीएस अजीथा ने कहा कि उत्तर प्रदेश स्टेट मेडिकल फैकल्टी से मिली जिम्मेदारी का निर्वहन करते हुए कॉलेज प्रदेश में नर्सिंग एजुकेशन के उन्नयन की दिशा में कार्य करने को कृत संकल्पित है।

*सभी मानकों पर उत्कृष्ट है गुरु श्री गोरक्षनाथ कॉलेज ऑफ नर्सिंग*
गुरु श्री गोरक्षनाथ कॉलेज ऑफ नर्सिंग, गुरु श्री गोरक्षनाथ इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज का एक हिस्सा है। इसकी स्थापना ब्रह्मलीन गोरक्षपीठाधीश्वर महंत अवेद्यनाथ के मार्गदर्शन में वर्ष 2009 में हुई थी। वर्तमान में महायोगी गोरखनाथ विश्वविद्यालय से संबद्ध इस कॉलेज की गिनती उत्तर प्रदेश के शीर्ष नर्सिंग कॉलेजों में होती है। यहां एएनएम, जीएनएम, बीएससी (नर्सिंग), पोस्ट बेसिक बीएससी (नर्सिंग) एवं एमएससी (नर्सिंग) जैसे पाठ्यक्रम संचालित हैं।
महायोगी गोरखनाथ विश्वविद्यालय के कुलपति मेजर जनरल डॉ अतुल वाजपेयी बताते हैं कि गुरु श्री गोरक्षनाथ कॉलेज ऑफ नर्सिंग इंडियन नर्सिंग काउंसिल और उत्तर प्रदेश स्टेट मेडिकल फैकल्टी द्वारा तय सभी मानकों पर उत्कृष्ट है। इसी उत्कृष्टता के कारण ही इसे मेंटर इंस्टीट्यूट के रूप में चयनित होने का गौरव हासिल हुआ है। यह कॉलेज योग्य, अनुभवी और सक्षम फैकल्टी, बेहतरीन भौतिक बुनियादी ढांचे, पुस्तकालय से सुसज्जित है। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि छात्रों को मूल अस्पतालों में नैदानिक ​​​​सीखने का अवसर मिलता है जो बहु अनुशासनिक सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल और अन्य संबद्ध अस्पताल और सामुदायिक केंद्र हैं।