कैमूर: नगर परिषद के सफाई कर्मी बीते बुधवार से लेकर रविवार तक बढ़े हुए मानदेय के भुगतान नहीं होने के विरोध में हड़ताल पर रहे। बीते सोमवार को सफाई कर्मियों का पांच सौ रुपये मानदेय तत्काल बढ़ाने पर हड़ताल समाप्त हुई। इसके बाद सफाई का कार्य शुरू हुआ। लेकिन नगर में कहीं भी सफाई नहीं हुई। वार्डों में भले ही सफाई कर्मी पहुंच कर सफाई किए, लेकिन मुख्य सड़कों पर पसरी गंदगी मंगलवार को भी दिखी। नाग पंचमी का पर्व होने के चलते सड़क से होकर कई लोग मंदिर गए। वार्डों से निकल कर भी मुख्य सड़कों से होकर ही लोग मंदिर गए। इस दौरान गंदगी से लोगों को काफी परेशानी हुई। बीते छह दिनों से पड़ा कूड़ा इतनी दुर्गंध दे रहा है कि कोई पास में खड़ा नहीं हो पा रहा। कई जगहों पर पसरी गंदगी को मवेशी इधर उधर कर दे रहे हैं

। इससे सड़क तक गंदगी पहुंच जा रही है। नगर के लोगों ने कहा कि जब सफाई कर्मी हड़ताल पर थे तो गंदगी से लोग परेशान थे। हड़ताल समाप्त हो गई इसके बाद भी पूर्व की ही स्थिति है। इन दिनों कोरोना संक्रमण जिले में तेजी से बढ़ रहा है। साथ ही बारिश भी हो रही है। नगर के चारों ओर गंदगी ही दिख रही है। यह लोगों के स्वास्थ्य के लिए कहीं से ठीक नहीं है। नगर परिषद की ओर से शीघ्र नगर के सभी जगहों की गंदगी की सफाई करानी चाहिए। लोगों ने कहा कि छावनी मुहल्ला, एकता चौक, सब्जी मंडी रोड व उसके सामने की सड़क से लेकर सभी प्रमुख जगहों व वार्डों को जाने वाली मुख्य सड़कों पर गंदगी दिख रही है। बता दें कि भभुआ नगर परिषद में कुल 125 सफाई कर्मी हैं। बीते तीन माह से एनजीओ का टेंडर समाप्त हो गया है। इन्हीं सफाई कर्मियों के भरोसे नगर की सफाई व्यवस्था है।