इंडियन ड्रेसिंग रूम में मॉन्स्टर मत बनाओ

नई दिल्ली: भारतीय क्रिकेट टीम में एक खिलाड़ी को हीरो बना देने वाले कल्चर की जमकर आलोचना की है। गंभीर का मानना है कि जिस तरह से विराट कोहली, एमएस धोनी को लेकर फैन्स में जुनून है, वह बाकी खिलाड़ियों के लिए भी होना चाहिए। गंभीर ने साथ ही कहा कि आप भारतीय क्रिकेट टीम के ड्रेसिंग रूम में मॉन्स्टर मत खड़ा करिए, पहले एमएस धोनी थे और अब विराट कोहली हैं। सिर्फ एक मॉन्स्टर होना चाहिए, वह है इंडियन क्रिकेट, ना कि कोई खिलाड़ी।

इंडियन एक्सप्रेस के आइडिया एक्सचेंज में गंभीर ने टीम इंडिया में एक हीरो के प्रति लोगों के जुनून को भारतीय क्रिकेट के लिए सही नहीं करार दिया है। इतना ही नहीं उन्होंने सोशल मीडिया के फॉलोअर्स को सबसे फेक चीज भी कहा। लेकिन गंभीर के इस पूरे स्टेटमेंट के पीछे की उनकी विचारधारा जानना जरूरी है। गंभीर ने कहा, ‘क्या आपको लगता है कि एक खिलाड़ी के हीरो वाले कल्चर में आने वाले स्टार खिलाड़ी चोक हो जाएंगे? इस तरह की छाया में कोई और खिलाड़ी ग्रो नहीं कर पाता है। पहले महेंद्र सिंह धोनी थे और अब विराट कोहली।’

गंभीर ने अपनी बात के साथ एक उदाहरण भी दिया, ‘जब विराट कोहली ने अफगानिस्तान के खिलाफ शतक लगाया, तब एक और खिलाड़ी था, मेरठ जैसे छोटे शहर या युवा गेंदबाज , जिसने पांच विकेट लिए थे। लेकिन किसी ने उसके बारे में बात तक नहीं की। यह काफी दुर्भाग्य वाली बात है। कमेंटरी के दौरान मैं इकलौता ऐसा शख्स था, जिसने यह बात कही थी। उसने चार ओवर गेंदबाजी की थी और पांच विकेट लिए थे, मुझे नहीं लगता यह बात ज्यादा लोग जानते हैं। लेकिन विराट ने सेंचुरी ठोकी, इसका जश्न पूरे देश में मनाया गया। भारत को एक ही क्रिकेटर को पूजने वाले कल्चर से बाहर आना चाहिए।

See also  विराट कोहली अब शायद ही रहें टी20 टीम का हिस्सा