जिलाधिकारी आर्यका अखौरी ने बेहद सख्त रूख अख्तियार किया

भदोही । विकास कार्यक्रमों के क्रियान्वयन में लापरवाही बरते जाने पर जहां तीन बाल विकास परियोजनाधिकारियों के वेतन भुगतान पर पर रोक लगाते हुए जिला कार्यक्रम अधिकारी को फटकार लगाई तो ग्राम सभा की परती भूमि पर प्रधानमंत्री आवास बना लेने के एक लाभार्थी को नोटिस जारी कर वसूली का निर्देश दिया। बाल विकास एवं पुष्टाहार विभाग की समीक्षा के दौरान पोषण पुनर्वास केंद्र (एनआरसी) में बच्चों की कम उपस्थिति एवं कार्य में लापरवाही पर सीडीपीओ ज्ञानपुर, डीघ एवं भदोही शहर का वेतन रोकते हुए स्पष्टीकरण देने का निर्देश दिया। प्रभारी डीपीओ को पुष्टाहार वितरण एवं कार्य में लापरवाही पर कड़ी फटकार लगाते हुए शोकाज नोटिस जारी की। बैराखास गौशाला में रास्ता न बनाए जाने पर नाराजगी जताते हुए एडीओ पंचायत को तीन दिन में इंटरलाकिग मार्ग बनवाने का निर्देश दिया। आयुष्मान कार्ड की खराब प्रगति के लिए जिम्मेदार तीन संविदा कर्मियों का मानदेय रोकने का निर्देश दिया। पंचायती राज विभाग की समीक्षा के दौरान मात्र 10 पंचायत भवनों का निर्माण होने पर प्रगति लाने पर बल दिया।

सभी पंचायत भवनों में व्हील चेयर एवं डस्टबीन रखवाने को कहा। नगर विकास की समीक्षा में प्रधानमंत्री शहरी आवास के लाभार्थियों को किस्त वितरण की समीक्षा की। रेवड़ा परसपुर निवासी प्रभुनाथ पाल द्वारा परती जमीन पर पीएम आवास योजना के अंतर्गत आवास बना लेने पर विधिक कार्रवाई करते हुए नोटिस जारी करने व जारी धनराशि का तत्काल प्रभाव से वसूली कराने को कहा। यूरिया की कमी के ²ष्टिगत किसानों को खतौनी के अनुसार यूरिया की बिक्री करने को कहा। मुख्यमंत्री ग्रामीण आवास की समीक्षा में पूर्ण हो चुके आवास की चाभी संबंधित लाभार्थियों को जनप्रतिनिधियों के हाथ सौंपने का निर्देश दिया। कोविड के तीसरी लहर के बढ़ते खतरे के ²ष्टिगत 15 से 18 वर्ष के किशोरों में तेजी लाने का निर्देश सीएमओ व डीआइओएस को दिया। इसी तरह लोक निर्माण विभाग, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य परिवार कल्याण विभाग, ग्राम विकास विभाग, नमामि गंगे एवं खाद्य एवं रसद विभाग, बेसिक शिक्षा, सूक्ष्म लघु एवं मध्यम विभाग, श्रम विभाग, नहर, बिजली आदि विभागों की समीक्षा करते हुए निर्धारित लक्ष्य के सापेक्ष कार्य की शत प्रतिशत पूर्ति करने पर जोर दिया। बैठक में सीडीओ भानुप्रताप सिंह, सीएमओ संतोष कुमार चक, परियोजना निदेशक मनोज कुमार राय, जिला अर्थ एवं संख्याधिकारी संतोष कुमार, समाज कल्याण अधिकारी महेंद्र यादव, उपायुक्त जिला उद्योग केंद्र हरेंद्र प्रताप, प्रशिक्षु एसडीएम अभय सिंह, बीएसए भूपेंद्र नारायण सिंह, डीआइओएस नंदलाल गुप्ता व अन्य अधिकारी थे।

See also  जिलाधिकारी ने लापरवाह सचिवों पर शिकंजा कस दिया