(stress) 
(stress) 

तनाव (stress) की वजह से लोगों की ईटिंग हैबिट्स  बदले 

तनाव और वजन: अब तक आपने सुना होगा कि तनाव की वजह से लोग कई मानसिक परेशानियों का शिकार हो जाते हैं और उसकी वजह से उनका वजन बढ़ जाता है. तनाव (stress)  हमारी फिजिकल और मेंटल हेल्थ को गहराई से प्रभावित करता है. इसकी वजह से कुछ लोगों का वजन बढ़ जाता है. एक स्टडी में हैरान करने वाली बात सामने आई है. इसमें बताया गया है कि ज्यादा तनाव की वजह से कई लोगों का वजन घट भी सकता है. इसके पीछे क्या वजह हो सकती हैं और यह हेल्थ के लिए कितना खतरनाक है. इस बारे में कुछ जरूरी बातें विस्तार से जान लेते हैं.

स्टडी में हुआ बड़ा खुलासा
स्ट्रेस की वजह से हमारी हेल्थ प्रभावित होती है और इसकी वजह से बिहेवियरल चेंज आ सकते हैं. स्ट्रेस की वजह से कुछ लोगों के शरीर के वजन में बदलाव आ सकता है. तनाव की वजह से लोगों की ईटिंग हैबिट्स यानी खान-पान की आदतें बदल जाती हैं, जो वजन घटने या बढ़ने की वजह बन जाती हैं. राहत की बात यह है कि स्ट्रेस को कंट्रोल करने से आप अपने वजन को भी कंट्रोल कर सकते हैं. तनाव की वजह से इन्फ्लेमेशन हो सकता है, जिसका असर मेटाबोलाइज्ड प्रोसेस पर होता है.

स्ट्रेस का इस तरह होता है असर
तनाव की वजह से हमारी बॉडी का सिंपैथेटिक नर्वस सिस्टम एपिनेफ्रीन को ट्रिगर करता है, जिससे शरीर का फाइट रिस्पांस सिस्टम एक्टिवेट हो जाता है. इस कंडीशन में हमारा दिल तेजी से धड़कता है और सांस लेने की गति तेज हो जाती है. इस वजह से शरीर की कैलोरी ज्यादा बर्न होती है. इससे खाने का डाइजेशन और ब्लड शुगर लेवल भी बदल जाता है. इसकी वजह से वेट लॉस हो सकता है. इसके अलावा तनाव की कंडीशन में हमारी पिट्यूटरी ग्लैंड एड्रेनल ग्लैंड को कॉर्टिसोल रिलीज करने का संकेत देती है. यह हार्मोन लिवर से फैटी एसिड और ग्लूकोस को रिलीज करके शरीर की एनर्जी बढ़ाता है. इसका असर भी वजन पर पड़ता है.

See also  सेहत को रखना है हरा भरा तो नियमित रूप से करें हरी धनियां का सेवन...जाने इसके चमत्कारिक गुण

ब्रेन-गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल का संपर्क होता है प्रभावित
तनाव की वजह से ब्रेन और गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल के बीच कॉम्युनिकेशन प्रभावित हो जाता है. इसकी वजह से हार्टबर्न, निगलने में दिक्कत, गैस, ब्लोटिंग, पेट दर्द, उल्टी, भूख में कमी, डायरिया, कब्ज और मांसपेशियों में ऐंठन जैसी समस्या हो जाती है. इन सभी कंडीशन में लोगों के लिए खाना-पीना मुश्किल हो जाता है और शरीर का वजन तेजी से घट जाता है. हालांकि यह शरीर के लिए बेहद खतरनाक कंडीशन भी हो सकती है. इसलिए परेशानी होने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए.