बीएलओ को गरुड़ एप का दिया गया प्रशिक्षण

सरायगढ़, सुपौल। प्रखंड कार्यालय परिसर स्थित सभा भवन में गुरुवार को बीएलओ को गरुड़ एप का प्रशिक्षण दिया गया। प्रखंड विकास पदाधिकारी की उपस्थिति में आईटी सहायक नीरज कुमार ने बीएलओ को एप से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारी दी। प्रशिक्षण के दौरान प्रखंड निर्वाची पदाधिकारी सह प्रखंड विकास पदाधिकारी श्वेता ने कहा कि प्रखंड क्षेत्र के सभी मतदान केंद्र का अब गरुड़ एप के माध्यम से भौतिक सत्यापन सहित अन्य कार्य किए जाएंगे। निर्वाचन कार्यालय में अब किसी भी मतदान केंद्र को अक्षांश और देशांतर रेखा पर देखा जा सकेगा।

कौन से मतदान केंद्र पर क्या समस्या है यह जानकारी निर्वाचन आयोग के पास भी उपलब्ध रहेगी। उन्होंने कहा कि सभी बीएलओ अपने-अपने मतदान केंद्र के वर्तमान स्थिति को गरुड़ एप पर लोड करें। उससे सही-सही जानकारी मिलेगी। उन्होंने कहा कि मतदान केंद्रों का स्थल पर पहुंचकर भी सत्यापन किया जा रहा है। सरायगढ़-भपटियाही प्रखंड क्षेत्र में 24 नवंबर को मतदान होना है। नामांकन की तिथि 21 अक्टूबर से लेकर 27 अक्टूबर निर्धारित है। 30 अक्टूबर तक नामांकन पत्रों की जांच कर ली जाएगी। 01 नवंबर तक अभ्यर्थी अपना नाम वापस ले सकेंगे।

01 नवंबर को ही चुनाव चिन्ह आवंटित किया जाना है और फिर 24 नवंबर को मतदान कराए जाएंगे। प्रखंड निर्वाची पदाधिकारी ने कहा कि 26 नवंबर तथा 27 नवंबर 2021 को मतगणना की तिथि निर्धारित है। सभी बीएलओ अपने अपने क्षेत्र में सक्रियता से काम करें ताकि मतदान के दौरान किसी भी प्रकार की कठिनाई नहीं हो। प्रशिक्षक नीरज कुमार ने बीएलओ को बताया कि गरुड़ एप के माध्यम से हम मतदान केंद्र से संबंधित किसी कार्य को आसानी से कर सकते हैं।

See also  दीपावली को दरकिनार कर...

 

प्रशिक्षण के दौरान बीएलओ को मोबाइल में गरुड़ एप लोड करने और फिर उस पर किसी भी प्रकार का संवाद भेजने के बारे में बताया गया। प्रशिक्षण में आईटी सहायक ने प्रशिक्षण का बेहतर उदाहरण प्रस्तुत किया। प्रशिक्षण में निर्वाचन कार्यालय सहायक नित्यानंद भार्गव, बीएलओ मु. अब्दुल्लाह, महेश पंडित, कलीमुद्दीन, अशोक कुमार, मु. रऊफ, विकास कुमार, रमेश कुमार, उमाकांत शर्मा, नीतीश कुमार, दिलीप कुमार, अशोक कुमार, घनश्याम कुमार, कृष्ण कुमार, दामोदर मालाकार, रामरतन मंडल, धीरेंद्र कुमार मेहता, अनंत कुमार रंजन, देवनारायण रंजन, इंद्रनारायण सहित काफी संख्या में बीएलओ मौजूद थे।