बिहार के कानून मंत्री है अपहरण के आरोपी लेकिन फरार नहीं ,कोर्ट ने गिरफ्तारी पर लगा रखा है रोक

 अग्रिम जमानत याचिका 201 /22 में एजीजी 3 ने दिया हैं आदेश ,1 सितंबर को अगली सुनवाई

>> कोर्ट द्वारा वारंट निर्गत मामले की जानकारी नहीं -कानून मंत्री

पटना ( अ सं ) । खबरें के ब्रेकिंग के चक्कर में कब किसकी छवि खराब कर दें, इसका एक ट्रेड चल गया हैं । बिहार के कानून मंत्री कार्तिके सिंह के बारे में खबर वायरल कर दिया गया की अपहरण के एक मामले में वह फरार चल रहें है कोर्ट ने वारंट जारी किया हैं । जबकि वर्ष 2014 में बिहटा थाना क्षेत्र से हुये अपहरण के मामले में कार्तिके सिंह ने अग्रिम जमानत याचिका 201/22 दाखिल किया था । एडीजी 3 ने दिनांक 12 अगस्त 2022 को अग्रिम जमानत याचिका पर सुनवाई करते हुये गिरफ्तारी पर अगली तारीख दिनांक 1 सितंबर 2022 तक रोक लगा रखा है ।
इस तरह बिहार के कानून मंत्री कार्तिके सिंह उर्फ कार्तिके मास्टर फरार नहीं हैं । कानून मंत्री कार्तिके सिंह ने भी स्पष्ट कहां है की मुझे वारंट जारी से संबंधित कोई जानकारी नहीं है। राजनीतिक साजिश के तहत फंसाया गया है और मेरे छवि को खराब करने के लिए प्रचारित किया गया हैं ।
See also  कमरतोड़ महंगाई, बढ़ती बेरोजगारी से लोग हैं आक्रोशित