Bihar Politics: तो क्या किडनैपर हैं बिहार के कानून मंत्री कार्तिकेय सिंह?

बिहार के नये क़ानून मंत्री कार्तिकेय कुमार सिंह उर्फ कार्तिक मास्टर के खिलाफ कई आरोप हैं, जिसमें 4 आपराधिक मामले दर्ज हैं, 23 धाराओं में केस दर्ज हैं और इनमें से 3 गंभीर धाराओं में केस दर्ज है. धारा 379 – चोरी, धारा 363 – अपहरण, धारा 365 – किसी व्यक्ति का गुप्त और अनुचित रूप से सीमित/कैद करने के आशय से अपहरण. इतने धाराओं में केस दर्ज होने के आरोप के बावजूद वे कानून मंत्री बने हैं. अब नीतीश कुमार की सरकार में वे कैसे कैबिनेट मंत्री बने, ये तो बाद की बात है.

बिहार के नये क़ानून मंत्री कार्तिकेय कुमार सिंह उर्फ कार्तिक मास्टर के खिलाफ कई आरोप हैं, जिसमें 4 आपराधिक मामले दर्ज हैं, 23 धाराओं में केस दर्ज हैं और इनमें से 3 गंभीर धाराओं में केस दर्ज है. धारा 379 – चोरी, धारा 363 – अपहरण, धारा 365 – किसी व्यक्ति का गुप्त और अनुचित रूप से सीमित/कैद करने के आशय से अपहरण. इतने धाराओं में केस दर्ज होने के आरोप के बावजूद वे कानून मंत्री बने हैं. अब नीतीश कुमार की सरकार में वे कैसे कैबिनेट मंत्री बने, ये तो बाद की बात है.

मंत्री ने आरोपों को किया खारिज
कार्तिकेय सिंह ने अपने ऊपर लगे आरोपों को खारिज किया है और साथ ही दावा किया है कि उन्हें इस मामले में साजिश के तहत फंसाया गया था. यह मामला 2014 का है जिसमें बाहुबली पूर्व विधायक अनंत सिंह भी आरोपी थे. किडनैपिंग की इस घटना के दौरान अनंत सिंह के काफिले की एक गाड़ी को गुस्साए लोगों ने जला दिया था.

See also  सुषमा स्वराज नही लड़ेगी अगला चुनाव, जाने वजह

कोर्ट में होना था हाजिर, ले रहे थे मंत्री पद की शपथ
पटना जिले के बिहटा थाना क्षेत्र में साल 2014 में राजू सिंह के कि़डनैपिंग का एक मामला दर्ज हुआ था. इस मामले में कार्तिकेय सिंह को कल कोर्ट में हाजिर होना था लेकिन वे कोर्ट में हाजिर होने की जगह नीतीश कुमार की कैबिनेट में मंत्री पद की शपथ ले रहे थे. वहीं कोर्ट में हाजिर नहीं होने के कारण अब उनके खिलाफ वारंट जारी किया गया है जिसके बाद महागठबंधन के साथ नीतीश की सरकार बनते ही किरकिरी शुरू हो गई है