आशा बहुओ ने मांगा राज्य कर्मचारी का दर्जा

परिवर्तन चौक पर इकट्ठा होकर लगायें सरकार विरोधी नारे,किया प्रदर्शन  
लखनऊ । आशा बहुओ ने लोकतांत्रिक सवालों को लेकर ऐक्टू से सम्बद्ध उत्तर प्रदेश आशा वर्कर्स यूनियन के प्रदेशव्यापी आवाहन पर गुरूवार को यूनियन की जिला अध्यक्ष कामरेड कमला गौतम के नेतृत्व में आशा बहुओ ने परिवर्तन चौक पर इकट्ठा होकर सरकार विरोधी नारेबाजी करते हुए जिलाधिकारी कार्यालय की ओर मार्च किया। इसके पश्चात मुख्यमंत्री को सम्बोधित 15 सूत्रीय मांगपत्र स्थानीय पुलिस अधिकारी को सौंपा। इस अवसर पर सभा को संबोधित करते हुए यूनियन की जिला अध्यक्ष कमला गौतम ने कहा कि प्रदेश में बेहद ही कठिन परिस्थितियों में काम करने वाली आशा वर्कर्स को इतने कम मानदेय में काम करना पड़ता है कि दुनिया में शायद ही कहीं किसी को इतना कम पारिश्रमिक मिलता हो। इसके बाबजूद भी 6-6 माह का मानदेय बकाया पड़ा हुआ है।

उन्होंने कहा कि इस मंहगाई के दौर में आशा वकर्स समय से वेतन नहीं मिलने के बाद कार्य कर रही। वहीं सरकार उन्हें पैसी समय देने के बजाये उनके ऊपर दिनों दिन काम का बोझा लादती जा रही है। उन्होंने कहा कि आशा वर्कर्स को शासन द्वारा निर्गत की जाने वाली प्रोत्साहन राशि जोकि करोड़ों रुपए है उसकी लूट बीच में ही की जा रही है। उन्होंने कहा कि कोरोकाल में 12000 रुपये की प्रोत्साहन राशि की बड़े पैमाने पर लूट कर ली गई। भ्रष्टाचार के इस महाघोटाले के खिलाफ मुख्यमंत्री को कई बार ज्ञापन दिए गए हैं लेकिन किसी के कान में जूं तक नहीं रेंगी। कहा कि भ्रष्टाचार के खिलाफ और आशा वर्कर्स को राज्य कर्मचारी घोषित कर 21000 रूपये वेतन की मांग को लेकर हमारी लड़ाई जारी रहेगी। इस अवसर पर संजू सिंह, शबा परवीन, शिवकुमारी,मीरा प्रजापति ने भी अपने विचार व्यक्त करते हुए प्रदेश सरकार की कड़ी आलोचना करते हुए आन्दोलन की चेतावनी दी।

See also  फॉरेंसिक साइंस इंस्टीट्यूट का किया औचक निरीक्षण