नये साल से पहले दम घोटने वाली गैस दे रहे हैं जन-प्रतिनिधि : बीपी त्यागी

मौसम के बदलते ही हवा की रफ़्तार कम होती है जोकि दम घोटूँ गैस वातावरण में है और वह जान लेवा साबित हो रही है। ग्रैप के क़ानून की धज्जियां उड़ रही हैं

नये साल से पहले दम घोटने वाली गैस दे रहे हैं जन-प्रतिनिधि : बीपी त्यागी

गाजियाबाद, ( तरूणमित्र ) डॉ. बी पी एस त्यागी ( स्वास्थ्य प्रभारी राष्ट्रीय जनसत्ता दल ) इलेक्शन से पहले जनता को यह दिखाना ज़रूरी है कि कुछ काम किया जा रहा है। अखब़ारों में तारीफ़ों के पुल बांधने, सड़कों पर तारकोल बिछाने से हमारी भोली-भली जनता अब आपके बहकावे में नहीं आने वाली है। मौसम के बदलते ही हवा की रफ़्तार कम होती है तो जोकि दम घोटूँ गैस वातावरण में है वह जान लेवा साबित हो रही है। ग्रैप के क़ानून की धज्जियां उड़ रही हैं। पाॅल्यूशन अपनी चरम सीमा पर है उसमें JN-1 COVID मिक्स्ड है, सड़क बनाने से उसमें कार्बन मोनोऑक्साइड और घोल दिया है तो भोली-भली जनता अपनी जान कैसे बचाएगी। क्या है CO गैस ? आपने पढ़ा होगा कि अंगीठी जलाने से कमरे के अंदर सो रहे लोगों की मौत हो गई, गैस गीज़र से मौत हो गई। गैस गीज़र अंगीठी व चारकोल जलाने से CO गैस निकलती है जो सांस के ज़रिए खून में हीमोग्लोबिन से मिलकर उसकी ऑक्सीजन ले जाने की छमता को जीरो कर देती है और कार्बॉक्सी हीमोग्लोबिन बनाकर दम घोंट देती है। क्या हमारे जन प्रतिनिधि क़ानून को ताक पर रखकर ये सड़क पर चारकोल नहीं डलवा रहे हैं। कोविड का सर्विलांस हो नहीं रहा है।एक पेशेंट इरफ़ान मैंने अपने अस्पताल से antigen पॉजिटिव रिपोर्ट के साथ फ़्राइडे (23/12/23) को भेजा था उसकी आज तक आरटीपीसीआर की रिपोर्ट हमें नहीं बतायी है जिससे हम अपना बचाव कर पायें। सड़क बनाकर ये लोग क्या लोगों का दम नहीं घोट रहे हैं यह सवाल मैं अपनी भोली-भली जनता के बीच छोड़ता हूँ जिसको ये बरगलाने की क़ोशिश करने में लग जाते हैं।

Tags:

About The Author

Latest News