नव वर्ष पर कोरोना प्रोटोकॉल का पालन कराना नहीं रहेगा आसान

शनिवार को रहा बांके बिहारी मंदिर में श्रद्धालुओं की भीड़ का दबाव

नव वर्ष पर कोरोना प्रोटोकॉल का पालन कराना नहीं रहेगा आसान

बांके बिहारी मंदिर प्रबंधन ने भी की है है भक्तों से अपील

मथुरा। वृंदावन में स्थित सुप्रसिद्ध ठाकुर बांके बिहारी मंदिर में शनिवार को श्रद्धालुओं की भारी भीड़ देखने को मिली। आने वाले दिनों में श्रद्धालुओं की भीड़ लगतार बढेगी। नव वर्ष और कई त्योहार आने वाले हैं। जिसके चलते वृंदावन में श्रद्धालुओं की भीड़ में इजाफा होता रहेगा। उससे पहले शनिवार को बांके बिहारी मंदिर के गेट नंबर दो के समीप श्रद्धालुओं की भीड़ का दबाव अधिक रहा। श्रद्धालुओं की भारी भरकम भीड़ के आगे प्रशासन की व्यवस्थाएं भी ध्वस्त नजर आई। व्यापारियों ने बताया कि श्रद्धालुओं की आज काफी भीड़ देखने को मिली है। भीड़ को देखते हुए आज कई व्यापारियों के द्वारा अपने प्रतिष्ठान को बंद कर दिया गया है।

वहीं बांके बिहारी मार्केट के व्यापारी द्वारकेश अग्रवाल ने बताया कि आज बांके बिहारी मंदिर पर श्रद्धालुओं की काफी भीड़ रही। वैसे तो वीकेंड और त्योहार के समय बांके बिहारी मंदिर पर श्रद्धालुओं की भीड़ देखने को ही मिलती है, लेकिन आज श्रद्धालुओं की काफी भीड़ रही। जिसके चलते हमारे द्वारा अपना प्रतिष्ठान बंद कर दिया गया, क्योंकि श्रद्धालुओं की जब भीड़ होती है, तो दुकानदारी नहीं हो पाती है। साथ ही व्यापारियों का कुछ ना कुछ नुकसान भी हो जाता है। इसके चलते जब कभी श्रद्धालुओं की भीड़ बहुत ज्यादा हो जाती है। जब अधिकतर व्यापारियों के द्वारा अपने प्रतिष्ठान बंद कर दिए जाते हैं।

मंदिर प्रबंधन ने यह की है श्रद्धालुओं से अपील
बांके बिहारी मंदिर प्रबंधन के द्वारा आगामी नव वर्ष को देखते हुए नई एडवाइजरी भी जारी की है। इस संबंध में मंदिर के प्रबंधक मनीष कुमार शर्मा बताया कि केंद्र सरकार और स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से कोरोना वायरस के नए वेरिएंट को लेकर एडवाइजरी जारी की गई है। उसी एडवाइजरी को बांके बिहारी मंदिर में भी सलाह के रूप में भक्तों से अपील की जा रही है।

नव वर्ष के मौके पर आने वाले सभी भक्तगण एतिहात बरतें। सभी लोग मंदिर में मास्क लगाकर ही आए और साथ ही जिन लोगों को खांसी, जुकाम, बुखार इत्यादि बीमारी है वह भीड़भाड़ वाले स्थान पर जाने से परहेज करें। वही उन्होंने बताया कि बच्चे और बुजुर्गों को भीड़भाड़ वाले स्थान से दूर रखें और साथ ही मंदिर परिसर में ज्यादा देर तक रुके ना रहे। ठाकुर जी के दर्शन करने के बाद तुरंत ही निकास मार्ग से बाहर की ओर निकल जाएं। ताकि मंदिर परिसर में अत्यधिक भीड़ न हो सके।

Tags: Mathura

About The Author

Latest News

एसीबी के अनुसंधान में एक दशक से अधूरी है पलामू के नक्सल प्रभावित इलाकों की 17 सड़कें एसीबी के अनुसंधान में एक दशक से अधूरी है पलामू के नक्सल प्रभावित इलाकों की 17 सड़कें
पलामू। एंटी करप्शन ब्यूरो की जांच के कारण पिछले एक दशक से पलामू के नक्सल प्रभावित इलाकों की 17 सड़कें...
छत्तीसगढ़ बोर्ड परीक्षा : द्वितीय अवसर के लिए आवेदन शुरू, अंतिम तिथि 30 तक
आईपीसी में कई बदलाव, गैंगरेप पर लगेगा धारा-70(1)
हाले एटीपी सेमीफाइनल में पहुंचकर झांग झिझेन ने रचा इतिहास
दिवंगत महान फुटबॉलर पेले की मां सेलेस्टे अरांतेस का 101 वर्ष की आयु में निधन
टी20 विश्व कप: होप के तूफानी अर्धशतक की बदौलत वेस्टइंडीज ने अमेरिका को 9 विकेट से हराया
साइकिलिंग स्पर्धा के माध्यम से प्रशंसक पेरिस की प्राकृतिक सुंदरता का अनुभव कर सकेंगे: यूसीआई अध्यक्ष