नवादा के 13965 घरों में पहुंचा गंगा जल

नवादा। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शुक्रवार को नवादा जिले के पौरा गांव में गंगा जल आपूर्ति योजना का लोकार्पण किया। इसके साथ ही गया, बोधगया और राजगीर के बाद नवादा शहरी इलाके के लिए पेयजल के रूप में गंगा जल आपूर्ति योजना जिलेवासियों को दी।

पौरा गांव में गंगा जल शोधन संयंत्र बनाया गया है। मुख्यमंत्री अपने पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के तहत सुबह साढ़े 11 बजे पौरा में बने हैलीपैड पर उतरे। यहां से वह सीधे कार्यक्रम स्थल पर पहुंचे। जहां उन्होंने रिमोट बटन दबाकर गंगा जल आपूर्ति योजना का लोकार्पण किया।

नवादा के 13 हजार घरों में ऐसे पहुंचा गंगा जल
अब गंगा जी राजगृह जलाशय से लगभग 20 किलोमीटर पाईप लाईन बिछाकर नवादा के पौरा में जल-शोधन संयंत्र तक गंगाजल को पहुंचाया जा रहा है। यहां से नवादा शहर के घर-घर में बुडको (नगर आवास एवं विकास विभाग) द्वारा पानी पहुंचाने की व्यवस्था की गयी है।

शुरूआती चरण में 17 वार्डों के साढ़े 13 हजार घरों में पानी पहुंचाया गया। बाद में शेष सभी वार्डों के घरों तक पानी पहुंचाया जाएगा। पौरा के इस जल-शोधन संयंत्र में 36 मिलियन लीटर प्रतिदिन पानी को साफ करने की क्षमता है।

वहीं पर एक मास्टर अंडरग्राउण्ड रिजर्वायर का निर्माण भी किया गया है। जिसमें 36 मिलियन लीटर पानी साफ करने के बाद रखा जा सकता है।

व्यवस्था ऐसी की गई है कि मास्टर अंडरग्राउण्ड रिजर्वायर से सीधे बुडको के चार संप हाऊस में पानी भेजा जाएगा। ये सभी संप हाउस नवादा नगर क्षेत्र में बनाए गए हैं। संप हाऊस से पंप के माध्यम से पानी को चार वाटर टैंकों में भेजा जाएगा।

प्रत्येक वाटर टैंक की क्षमता लगभग साढ़े चार लाख लीटर है। इन वाटर टैंकों के माध्यम से नवादा शहरी क्षेत्र के घरों को पानी की आपूर्ति की जाएगी। इसके अंतर्गत प्रत्येक व्यक्ति को प्रतिदिन 135 लीटर (8-9 बाल्टी) की दर से गंगाजल की आपूर्ति की जाएगी।

विद्युत आपूर्ति के लिए ये होगी व्यवस्था
विद्युत आपूर्ति के लिए पौरा स्थित जल-शोधन संयंत्र के पास ही अलग से विद्युत सब-स्टेशन का भी निर्माण किया गया है। इस योजना के शुरू होने से नवादा शहर के लोगों के साथ-साथ होटल, धर्मशाला, शिक्षण संस्थान में भी पेयजल की आपूर्ति होगी। इससे भू-गर्भ जल पर निर्भरता कम होगी। भू-गर्भ जल का दोहन कम होगा और धीरे-धीरे जल स्तर में बढ़ोतरी होगी। यह पर्यावरण संरक्षण के अनुकूल योजना है एवं इससे पूरा वातावरण बेहतर होगी।

मधुबनी से पहुंचे चार आचार्य ब्राह्मणों ने पूरे वैदिक विधान से मंत्रोचार किया
इस बीच मधुबनी से पहुंचे चार आचार्य ब्राह्मणों ने पूरे वैदिक विधान से मंत्रोचार किया। मुख्यमंत्री इस पूजन में शामिल हुए। उन्होंने अक्षत-पुष्प वेदी पर चढ़ाकर गंगा मईया की आरती उतारी। इस बीच शिव स्तुति मंत्र ऊं कर्पूर गौरं करूणावतारं पढ़ा गया। पूजन आरती संपन्न होने के बाद सीएम ने गंगा जल आपूर्ति योजना को लेकर बनी एक डाक्यूमेंट्री फिल्म देखी।

Tags:

About The Author

Related Posts

Latest News

वरिष्ठ पत्रकार संपादक एवं प्रमुख समाजसेवी अलविदा कह गया, नाम आंखों से दी विदाई वरिष्ठ पत्रकार संपादक एवं प्रमुख समाजसेवी अलविदा कह गया, नाम आंखों से दी विदाई
अलीगढ़ । समाज कल्याण सेवा संस्थान ट्रस्ट  (रजि0) कार्य क्षेत्र -संपूर्ण भारत अलीगढ़ के द्वारा केंद्रीय कार्यालय कृष्णापुरी पर एक...
जोड़ी गदा कुश्ती के हरफनमौला रहे महाबली स्वर्गीय अदालत पहलवान की मनाई गई 5वीं पुण्यतिथि, किए गए याद
डाॅ बीपी त्यागी ने राष्ट्रवादी नवनिर्माण दल से दिया इस्तीफा, पार्टी से उनका अब कोई नाता नहीं
राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ कार्यकर्ता प्रशिक्षण वर्ग के समापन समारोह में पहुंचे सांसद अतुल गर्ग
वृद्धाश्रम में बुजुर्गों का कुशल क्षेम जानने पहुंची भावी अध्यक्ष सुषमा गुप्ता
नागरिक पुलिस को जनपद के पुलिस लाइन सभागार में दिया गया 01 दिवसीय प्रशिक्षण
विशेष अभियान के क्रम में प्रभारी निरीक्षक यातायात द्वारा की गई कार्यवाही