ईरान ने इजराइल के खुफिया एजेंसी ‘मोसाद’ के जासूस को दी फांसी

ईरान ने इजराइल के खुफिया एजेंसी ‘मोसाद’ के जासूस को दी फांसी

तेहरान। ईरान ने कहा है कि उसने देश के दक्षिणपूर्व में इजराइली खुफिया एजेंसी मोसाद के एक जासूस को फांसी दे दी है. सरकारी टीवी पर शनिवार को यह खबर दी गई है. खबर में कहा गया है कि जासूस के मोसाद  समेत विदेशी खुफिया एजेंसियों से संबंध थे और उस पर गोपनीय सूचना साझा करने में शामिल होने का आरोप था।

खबर में कहा गया है कि न्यायपालिका ने उस व्यक्ति को दक्षिण-पूर्वी प्रांत सिस्तान-बलूचिस्तान की राजधानी जाहेदान की जेल में फांसी दे दी. खबर में व्यक्ति की पहचान जाहिर नहीं की गई है।

अप्रैल 2022 में ईरान के खुफिया अधिकारियों ने तीन व्यक्तियों को गिरफ्तार करने के बाद कहा था कि उनके मोसाद से जुड़े एक समूह से संबंध हैं. हालांकि, यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि जिस व्यक्ति को फांसी दी गई है, वह उन्हीं तीन व्यक्तियों में से एक था या नहीं।

इससे पहले दिसंबर 2022 में, ईरान ने चार लोगों को फांसी दी थी, जिन्हें इज़राइल की खुफिया सेवाओं के साथ सहयोग करने का दोषी बताया गया था. मालूम हो कि ईरान इज़रायल को मान्यता नहीं देता है और दोनों देश में कई से वर्षों से शेडो युद्ध चल रहा है।

तेहरान ने इज़राइल पर उसके परमाणु (atom) कार्यक्रम को निशाना बनाकर तोड़फोड़ और कई लोगों की हत्याओं करने का आरोप लगाया है. अमेरिका और इज़राइल ने ईरान पर खाड़ी में अमेरिकी सेना और इज़राइल से जुड़े जहाजों पर हमला करने के लिए ड्रोन और मिसाइलों का उपयोग करने का भी आरोप लगाया है।

एमनेस्टी इंटरनेशनल सहित कई मानवाधिकार समूहों के अनुसार, ईरान चीन को छोड़कर किसी भी अन्य देश की तुलना में प्रति वर्ष सबसे अधिक लोगों को फांसी देता है. नवंबर की एक रिपोर्ट में, नॉर्वे स्थित मानवाधिकार समूह ने कहा कि ईरानdownload (iran) ने इस साल अब तक 600 से अधिक लोगों की हत्या कर चुका है, जो आठ वर्षों में सबसे अधिक आंकड़ा है. ईरान आम तौर पर लोगों को फांसी की सजा देता है।

Tags:

About The Author

Latest News