नरेन्द्र मोदी स्टेडियम पर क्रिकेट का सबसे बड़ा त्योहार, विश्वकप ट्रॉफी जीतने को हर भारतीय बेकरार

सचिन समेत कई बड़े खिलाड़ी अहमदाबाद पहुंचे

नरेन्द्र मोदी स्टेडियम पर क्रिकेट का सबसे बड़ा त्योहार, विश्वकप ट्रॉफी जीतने को हर भारतीय बेकरार

अहमदाबाद। भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच वर्ल्ड कप का फाइनल मैच आज (रविवार) यहां के नरेन्द्र मोदी स्टेडियम में अपराह्न 2 बजे शुरू होगा। सुबह से ही अहमदाबाद में त्योहार जैसा माहौल है। स्टेडियम जाने वाले सभी रास्तों पर दर्शकों का रेला नजर आ रहा है । स्टेडियम के आसपास दर्शकों की भीड़ जमा हो चुकी है। सभी को कुछ देर में प्रवेश करने की अनुमति दी जाएगी।

यहां फाइनल मैच को लेकर रोमांच चरम पर है। भारत को इस बार वर्ल्ड कप ट्रॉफी का प्रबल दावेदार बताया जा रहा है। भारत ने लीग और सेमिफाइनल के सभी 10 मैच जीते हैं। भारत ने तीन बार और ऑस्ट्रेलिया ने 5 बार वर्ल्ड कप ट्रॉफी जीती है। फाइनल मैच देखने 100 से अधिक वीवीआईपी के पहुंचने का अनुमान है। भारत रत्न सचिन तेंदुलकर समेत कई अन्य तो अहमदाबाद आ चुके हैं।

प्रशासन ने मोटेरा के नरेन्द्र मोदी स्टेडियम के आसपास सुरक्षा कड़ी कर दी है। तेंदुलकर सुबह अहमदाबाद पहुंचे । उन्होंने भारतीय टीम को जीत की शुभकामना दी है। साथ ही कहा है कि आज हमलोग ही ट्रॉफी उठाएंगे। मैच देखने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह, ऑस्ट्रेलिया के उप प्रधानमंत्री समेत आठ राज्य के मुख्यमंत्री आने वाले हैं। कुछ उद्योगपति और अभिनेता-अभिनेत्री भी पहुंच सकते हैं।प्रशासन ने छह हजार से अधिक जवानों का बंदोबस्त कर सख्त सुरक्षा व्यवस्था की है।

Tags:

About The Author

Latest News

रिम्स में राज्य का पहला सर्जिकल स्किल और वेट लैब स्थापित रिम्स में राज्य का पहला सर्जिकल स्किल और वेट लैब स्थापित
रांची। रिम्स के क्षेत्रीय नेत्र संस्थान में राज्य का पहला सर्जिकल स्किल एवं वेट लैब स्थापित किया गया है। रिम्स...
मुख्यमंत्री चम्पाई सोरेन चार मार्च को जाएंगे गिरिडीह
मतदान के प्रति जागरूक करना हमारी नैतिक जिम्मेवारी: निदेशक
सीआईडी ने दो साइबर अपराधी को किया गिरफ्तार
जबलपुर इंजीनियरिंग कालेज को "टेक्नोलॉजी हब" बनाने की दिशा में हो क्रियान्वयन: मंत्री परमार
मंत्री कृष्णा गौर ने की गुफा मंदिर में महाशिवरात्रि आयोजन की तैयारियों की समीक्षा
अपने लोगों पर गर्व करने की परंपरा करनी होगी विकसित: उच्च शिक्षा मंत्री परमार