रूसी राष्ट्रपति पुतिन ने की पीएम मोदी की तारीफ

बोले 'राष्ट्रहित में फैसले लेने से उन्हें कोई नहीं रोक सकता'

रूसी राष्ट्रपति पुतिन ने की पीएम मोदी की तारीफ

नई दिल्ली। रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने एक बार फिर भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ की है। राष्ट्रपति पुतिन ने कहा है कि भारत या भारत के लोगों के हितों के खिलाफ कार्रवाई या राष्ट्रहित में ​फैसले के लिए मोदी को डराने, धमकाने या मजबूर कर सकने की मैं कल्पना भी नहीं कर सकता। वैसे मैं ये जानता हूं कि उन पर ऐसा दबाव है। हालांकि हम कभी इस बारे में बात नहीं करते हैं। 

राष्ट्रपति पुतिन ने भारत और रिश्तों के संदर्भ में कहा कि 'मैं बाहर से सिर्फ यह देखता हूं कि क्या हो रहा है। मैं सच कहूं तो भारतीय लोगों के राष्ट्रीय हितों की सुरक्षा पर मोदी के सख्त रुख से कभी कभी आश्चर्यचकित भी होता हूं। 'रशिया कॉलिंग फोरम' कार्यक्रम में पुतिन ने ऐसे कई सवालों के जवाब दिए और अपनी बात रखी।   पुतिन ने कहा कि रूस व भारत के रिश्ते सभी दिशाओं में विकसित हो रहे हैं। खास बात यह है कि इसकी मुख्य गारंटी पीएम मोदी की नीति ही है। पीएम मोदी भारत के हित में लगातार फैसले ले रहे हैं। 

पहले भी पुतिन ने की थी तारीफ
इससे पहले पुतिन ने 4 अक्टूबर को भी एक कार्यक्रम में पीएम मोदी और मेड इन इंडियाके प्रति उनके आग्रह की जमकर तारीफ की थी। उन्होंने कहा था कि 'नरेंद्र मोदी एक बहुत बुद्धिमान व्यक्ति हैं। उनके नेतृत्व में भारत विकास के मामले में काफी प्रगति कर रहा है। उनके इस एजेंडे पर काम करना भारत और रूस दोनों के हित से पूरी तरह मेल खाता है।'

पांचवी बार राष्ट्रप​ति बन सकते हैं पुतिन
बता दें कि रूस में मार्च के महीने में राष्ट्रपति चुनाव होना है इसके लिए तारीख का ऐलान हो गया है। अब रूस में 17 मार्च 2024 को राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव होगा। माना जा रहा है कि पुतिन पांचवी बार इस पद के लिए चुनाव लड़ेंगे। वैसे पुतिन के सामने विपक्ष बेहद कमजोर है। हालांकि फिर भी उन्हें रूस और यूक्रेन जंग के मद्देनजर कई चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है।putin modi

About The Author

Tarunmitra Picture

‘तरुणमित्र’ श्रम ही आधार, सिर्फ खबरों से सरोकार। के तर्ज पर प्रकाशित होने वाला ऐसा समचाार पत्र है जो वर्ष 1978 में पूर्वी उत्तर प्रदेश के जौनपुर जैसे सुविधाविहीन शहर से स्व0 समूह सम्पादक कैलाशनाथ के श्रम के बदौलत प्रकाशित होकर आज पांच प्रदेश (उत्तर प्रदेश, बिहार, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश और उत्तराखण्ड) तक अपनी पहुंच बना चुका है। 

Latest News