नई शिक्षा नीति का उद्देश्य छात्रों को कुशल बनाना : युगल किशोर मिश्र

नई शिक्षा नीति का उद्देश्य छात्रों को कुशल बनाना : युगल किशोर मिश्र

प्रयागराज। राष्ट्रीय शिक्षा प्रणाली में बदलाव लाने के लिए 34 वर्षों के अंतराल के बाद जुलाई 2020 में हमारी केन्द्रीय सरकार द्वारा एक नई शिक्षा नीति को मंजूरी दी गई। नई शिक्षा नीति का उद्देश्य छात्रों की सोच और रचनात्मक क्षमता को बढ़ाकर सीखने की प्रक्रिया को और अधिक कुशल बनाना है।यह बातें मुख्य वक्ता ज्वाला देवी गंगापुरी के प्रधानाचार्य युगल किशोर मिश्र ने सोमवार को ज्वाला देवी सरस्वती विद्या मन्दिर इण्टर कॉलेज सिविल लाइन्स में आयोजित नवचयनित आचार्य प्रशिक्षण वर्ग में कही।
 
उन्होंने राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 का परिचय पर सभी को सम्बोधित करते हुए कहा कि नई शिक्षा नीति में स्कूल स्तर के साथ-साथ उच्च शिक्षा में कई बदलाव शामिल हैं। 29 जुलाई 2020 को कस्तूरी रंगन की अध्यक्षता में नई शिक्षा नीति बनाई गई। यह शिक्षा के क्षेत्र में सरकार द्वारा की गई उत्कृष्ट पहल है। वर्ष 2030 तक इस नीति को पूर्ण रूप से लागू करने की आशा है।
 
उचित बुनियादी शिक्षा प्राप्त करना भारतीय संविधान के अनुसार प्रत्येक व्यक्ति का जन्मसिद्ध अधिकार है।उन्होंने कहा कि नई शिक्षा नीति सीखने के लिए पुस्तकों का बोझ बढ़ाने के बजाय व्यावहारिक शिक्षा को बढ़ाने पर ज्यादा केंद्रित है। छात्रों को पाठ्यक्रम के विषयों के साथ-साथ सीखने की इच्छा रखने वाले पाठ्यक्रम का चयन करने की भी स्वतंत्रता होगी, इस तरह से कौशल विकास को भी बढ़ावा मिलेगा।
 
यह 10़2 सिस्टम को 5़3़3़4 संरचना के साथ बदल देता है, जिसमें 12 साल की स्कूली शिक्षा और 3 साल की प्री-स्कूलिंग होती है। नई शिक्षा नीति का मुख्य उद्देश्य एक बच्चे को कुशल बनाने के साथ-साथ, जिस भी क्षेत्र में वह रुचि रखता है, उसी क्षेत्र में उन्हें प्रशिक्षित करना है। नई शिक्षा नीति में शिक्षक की शिक्षा और प्रशिक्षण प्रक्रियाओं के सुधार पर भी जोर दिया गया है।
 
प्रधानाचार्य ने अंत में कहा कि वर्तमान शिक्षा प्रणाली वर्ष 1986 की मौजूदा शिक्षा नीति में किए गए परिवर्तनों का परिणाम है। इसे शिक्षार्थी और देश के विकास को बढ़ावा देने के लिए लागू किया गया है। नई शिक्षा नीति बच्चों के समग्र विकास पर केंद्रित है। इस नीति के तहत वर्ष 2030 तक अपने उद्देश्य को प्राप्त करने का लक्ष्य है। इस अवसर पर प्रधानाचार्य विक्रम बहादुर सिंह परिहार सहित कई शिक्षक उपस्थित रहे।
Tags: Prayagraj

About The Author

Latest News

डॉ शकुंतला आयुर्वेदिक मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल का शुभारंभ डॉ शकुंतला आयुर्वेदिक मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल का शुभारंभ
जौनपुर। जौनपुर के नयनसण्ड गौराबादशाहपुर स्थित डॉ शकुंतला आयुर्वेदिक मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल का शुभारंभ उत्तर प्रदेश सरकार में राज्य...
योगी सरकार में पत्रकारों का विशेष सम्मान - धर्मपाल सिंह,
केजीएमयू में कर्मचारी लिपिक संवर्ग को मिली पदोंन्नति
ये है जनता का जनादेश, भाजपा की उल्टी गिनती शुरू - धीरेंद्र प्रताप 
डीएम और एसपी ने थाना समाधान दिवस पर समस्याओं के गुणवत्तापूर्ण निस्तारण का दिया निर्देश
कोतवाली सदर में डीएम-एसपी ने सुनी समस्याएं, दिए निस्तारण के निर्देश
भारत विकास परिषद मनवर शाखा की बैठक मंें पौधरोपण का निर्णय