एयरपोर्ट सुरक्षा को ले प्रशासन अलर्ट, ऊंची किया बाउंड्री वॉल!

तरूणमित्र ने ‘एयरपोर्ट सुरक्षा में दिखी चूक, प्रशासन मौन’ शीर्षक से किया था प्रकाशन

एयरपोर्ट सुरक्षा को ले प्रशासन अलर्ट, ऊंची किया बाउंड्री वॉल!

  • लिया संज्ञान, लखनऊ-कानपुर हाईवे पर बाउंड्री वॉल की किलेबंदी शुरू की गई
लखनऊ, सरोजनी नगर। एयरपोर्ट प्रशासन ने सुरक्षा को लेकर बड़ा कदम उठा लिया है राष्ट्रीय हिंदी दैनिक तरुणमित्र ने एयरपोर्ट सुरक्षा को लेकर खबर प्रमुखता से प्रकाशित किया था जिसका शीर्षक था ‘एयरपोर्ट सुरक्षा में दिखी चूक, प्रशासन मौन’... जिसका संज्ञान लेकर एयरपोर्ट के उच्च अधिकारियों ने बाउंड्री वाल की किलेबंदी शुरू कर दी अब लखनऊ कानपुर हाईवे से गुजरने वाले लोग एयरपोर्ट के अंदर की फोटो वीडियो नहीं बना सकेंगे। बता दें कि बाउंड्री की ऊंचाई कम होने के चलते बड़ी संख्या में लोग लग्जरी गाड़ियां खड़ी करके अंदर हवाई उड़ानों व कैंपस की तस्वीरें लेते थे जो सुरक्षा के दृष्टि से दंडनीय अपराध हौ। लेकिन अब प्रशासन ने सक्रियता दिखाते हुए कम ऊंचाई वाले हिस्से को एंगल के सहारे टीन शेड को लगाकर बंद करने का काम शुरू कर दिया है।

क्यों जरूरी था बाउंड्री वॉल को ऊंचा करना...!

एयरपोर्ट सुरक्षा के जानकारों की माने तो लखनऊ कानपुर हाईवे से गुजरने वाले जो लोग एयरपोर्ट  के अंदर की तस्वीर व वीडियो अपने कमरे और मोबाइल में कैद करते हैं वो सुरक्षा के लिहाज से बहुत बड़ा खतरा साबित हो सकता है क्योंकि लखनऊ कानपुर हाईवे से एयरपोर्ट के अंदर की तस्वीर पूरी तरह से साफ-साफ दिखती है कौन सी फ्लाइट उड़ान भरने के लिए तैयार है और कितने फ्लाइट एयरपोर्ट के अंदर खड़े हैं। इसके अलावा हवाई अड्डे की गतिविधियों को भी देखा जा सकता है।
 
pp1
 
ये समस्याएं सिर्फ बाउंड्री की ऊंचाई कम होने की वजह से होती रहती हैं। वहीं जानकारों का तो यह भी कहना रहा कि अब तो एआई यानी आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस जैसी एडवांस तकनीक का दौर आ गया है, जिसके तहत कहीं की भी तस्वीर लगाकर, कोई भी अनियमितता से भरी चीज सोशल मीडिया पर वॉयरल करते हुए अफवाह या भ्रान्ति फैलाई जा सकती है। ऐसे में जब किसी भी नागरिक की पहुंच जब एयरपोर्ट परिसर के अंदर की गतिविधियों से दूर होगी, तो ऐसा कुछ भी अप्रिय घटना होने की संभावन नहीं के बराबर होगी।

सीआईएसएफ जवानों को भी सतर्क होने की जरूरत...!

नेशनल हाईवे के किनारे सीआईएसएफ जवानों के बंकर बने हुए हैं जिनमें एक सुरक्षा कर्मी दिन में और एक सुरक्षा कर्मी रात में तैनात रहता है। अगर सीआईएसफ के जवान चाहे तो हाईवे के किनारे जमा भीड़ को हटा सकते हैं, क्योंकि सुरक्षा कर्मियों के सामने ही एयरपोर्ट के अंदर की वीडियो ग्राफी व तस्वीर कैद की जाती है ऐसे में अगर सीआईएसफ का जवान चाहे तो एक भी फोटो व वीडियो कैद नहीं हो सकता है। लेकिन यह भी सही है कि जब तक केंद्रीय सुरक्षा बल के जवानों को उनके हाईकमान से ऐसा कोई विशेष निर्देश नहीं मिलता है तो वो एयरपोर्ट के बाहरी एरिया से घटित होने वाले किसी भी गतिविधि पर रोक नहीं लगा सकते।
Tags: lucknow

About The Author

Latest News

सराहनीय पहल : डाॅ बीपी त्यागी बनाएंगे रैबीज मुक्त गाजियाबाद सराहनीय पहल : डाॅ बीपी त्यागी बनाएंगे रैबीज मुक्त गाजियाबाद
गाजियाबाद में बुधवार को दोपहर 3:00 बजे अवकेनिंग इंडिया फाउंडेशन और महाराणा प्रताप वीर शिरोमणि ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस रेबीज...
माहे मोहर्रम पर इमाम हुसैन की प्यासी सिद्दत की याद में शर्बत वितरण किया गया
मुहर्रम पर शहर में निकाला गया ताजिया जुलूस
अकीदत व एहतराम के साथ ऐतिहासिक मुहर्रम सम्पन्न
महिला से चेन छिनतई, जांच में जुटी पुलिस
हेमंत सोरेन ने जेल से बाहर आकर चम्पाई सोरेन का पॉलिटिकल मर्डर किया : हिमंत विस्व सरमा
एटीएम में कार्ड फंसा, 96 हजार रुपये की हुई निकासी