पता नहीं किस मिट्टी की बनी हैं ये तमन्नाएं मरती हैं तड़पती हैं फिर भी रोज जन्म लेती हैं : अजय गुप्ता

घर-घर से निकलेगा सदर उपचुनाव में विधानसभा के लिए दावेदार पर वक्त का कब बिगड़े मिजाज

पता नहीं किस मिट्टी की बनी हैं ये तमन्नाएं मरती हैं तड़पती हैं फिर भी रोज जन्म लेती हैं : अजय गुप्ता

गाजियाबाद। ( तरूणमित्र ) लोकसभा के चुनाव लगभग खत्म होने को है, सभी को इंतजार है 4 जून का, घड़ी की सुइयां धीरे-धीरे खिसक रही हैं, और गाजियाबाद महानगर में लोगों की धड़कने बढ़ रही हैं कुछ लोग तो ऐसे हैं जिन्हें 4 जून लोकसभा प्रत्याशी की जीत से ज्यादा सदर उपचुनाव विधानसभा की सीट पर निगाहें जमी हुई हैं, लगता है घर-घर से निकलेगा दावेदार, काश इन दावेदारों ने जो आज दूसरे प्रदेशों में जाकर प्रत्याशियों के लिए अपना पसीना बहा रहे हैं उन्होंने अपने गाजियाबाद के लिए भी इतनी मेहनत की होती पार्षदों ने भी अपने-अपने वार्डों में मेहनत की होती पर कुछ पार्षद चुनाव के दौरान अपने वार्ड में दर्शन देने के लिए आए ही नहीं जिसमें वार्ड 56 भी आता है, यहां के पार्षद कौन हैं अधिकतर लोगों को नहीं पता, ज्यादा ओवर कॉन्फिडेंस कभी-कभी नुकसान कर देता है, वक्त और समय का कुछ पता नहीं चलता न जाने वक़्त का कब बिगड़े मिजाज, इसलिए कहते हैं घड़ी में सुइयां होती हैं, फूल नहीं चाहे कोई कुछ भी कहे, खिलेगा तो कमल ही, मोदी जी पर पूरे देश को विश्वास है, जो राष्ट्र और राष्ट्र की उन्नति के लिए चट्टान की तरह खड़े हुए हैं, जय-हिंद अजय गुप्ता राष्ट्रीय उपाध्यक्ष उद्योग व्यापार मंडल एवं समाजसेवी।

Tags:

About The Author

Latest News

 'लोकतंत्र में राजनीतिक हिंसा के लिए कोई जगह नहीं' 'लोकतंत्र में राजनीतिक हिंसा के लिए कोई जगह नहीं'
अमेरिका: अमेरिका में होने वाले राष्ट्रपति चुनाव से पहले बड़ी हिंसव वारदात हुई है। पेंसिल्वेनिया के बटलर में डोनाल्ड ट्रंप...
आज का राशिफल 14 जुलाई 2024 :जाने  कैसा रहेगा आज का दिन
संविधान की हत्या करने वाली कांग्रेस के साथ सिर्फ सत्ता के लिए झामुमो गलबहियां कर रहा
सरैयाहाट में दो भाई बहनों से पूछताछ कर मुंबई पुलिस वापस लौटी
मुख्यमंत्री बहन-बेटी माई-कुई योजना के फर्जी फॉर्म मिलने की शिकायत: डीसी
जिला खनन टास्क फोर्स टीम की बड़ी कार्रवाई, दर्जनों कोयला खदान को किया डोजरिंग
राष्ट्रीय लोक अदालत में 12,269 वादों का निष्पादन, करीब नाै करोड़ की वसूली