सीआरपीएफ हवलदार ने की खुदकुशी, सुसाइड नोट में लिखा- डिप्टी कमांडेंट करते थे प्रताड़ित

सीआरपीएफ हवलदार ने की खुदकुशी, सुसाइड नोट में लिखा- डिप्टी कमांडेंट करते थे प्रताड़ित

रांची। सीआरपीएफ 133 बटालियन के हवलदार बसंत कुमार (41) ने कीटनाशक दवा खाकर खुदकुशी का प्रयास किया, उन्हें पारस अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां इलाज के क्रम में रविवार को उनकी मौत हो गयी। उन्होंने अपने मरने के पहले दिये बयान में जगन्नाथपुर पुलिस को बताया कि उसके डिप्टी कमांडेंट (एडीएम) मृत्युंजय कुमार उन्हें एक माह से प्रताड़ित कर रहे थे जिससे तंग आकर उन्होंने खुदकुशी की। उसके मौत के जिम्मेदार उसके डिप्टी कमांडेंट होंगे।

उन्हाेंने पुलिस को बताया कि उन्होंने एक सुसाइड नोट भी लिखा है जिसे उन्होंने व्हाट्सअप में रखा है और अपने पुत्र को भेज दिया है। बसंत कुमार की मौत के बाद उनके पुत्र ऋतु राज का बयान लेकर जगन्नाथपुर पुलिस ने रिम्स में पोस्टमार्टम के बाद शव को उनके पुत्र को सौंप दिया गया। बसंत कुमार वर्तमान में सेक्टर टू के क्वार्टर नंबर-बी-116 में रहते थे। वे मूल रूप से बिहार के बैशाली जिला के धरधरा गांव के निवासी थे।

इस संबंध में जगन्नाथपुर थाना प्रभारी ने बताया कि सीआरपीएफ हवलदार ने आत्महत्या की है, उनके आत्महत्या के पीछे डिप्टी कमांडेंट के प्रताड़ना की बात सामने आयी है। पुलिस मामले की जांच कर रही है। पोस्टमार्टम के बाद बसंत कुमार का शव सीआरपीएफ कैंप ले जाया गया, वहां उन्हें अंतिम सलामी दी गयी। उसके बाद शव उनके पैतृक आवास बैशाली ले जाया गया। बसंत कुमार का एक पुत्र और एक पुत्री हैं।

क्या है मामला
हवलदार बसंत कुमार ने अपने सुसाइड नोट में लिखा है कि वह 133 बटालियन सेक्टर टू धुर्वा, रांची के अराजपत्रित अधिकारी मेस के मेस कमांडर के रूप में कार्यरत थे। उस मेस के डिप्टी कमांडर(एडीएम) मृत्युंजय कुमार सचिव है। नोट में उन्होंने लिखा है कि उनके द्वारा एक माह से बंसत कुमार को मानसिक रूप से प्रताड़ित कर रहे है। उनके पास मेस का बिल का लगभग 9000 और लिकर का बिल 6926 तथा नकद 6050 रुपये कुल 21976 रुपये बिल बकाया है। वह हमेशा कहते हैं कि उक्त राशि को एडजस्ट करो। हम छोटा कर्मचारी इतना रुपया कहां से अडजस्ट करे। इसे लेकर हम काफी तनाव में रहते है। इस वजह से सुसाइड करने के अलावा कोई उपाय नहीं है। सीआरपीएफ में हम बहुत छोटे कर्मचारी है, हमारी बातों का दबाया जाता है। इसी कारण बराबर सीआरपीएफ में सुसाइड करने के लिए जवान मजबूर हो जाता है।

उन्होंने सुसाइड नोट एसपी के नाम से लिखा है, उसमें लिखा है कि मेरे मरने के बाद उस अधिकारी पर कड़ी कार्रवाई करने का कष्ट करेंगे। मुझे डिप्टी कमांडेंट द्वारा बार-बार सजा के तहत जांच कराने और कड़ी कार्रवाई की धमकी देते है। मैं बहुत मजबूर होकर यह कदम उठा रहा हूं। उसने सुसाइड नोट में लिखा है कि किसे अपनी जिंदगी से प्यार नहीं होता। किसे अपनी जिंदगी से प्यार नहीं होता, लेकिन मजबूरी में ही गलत कदम उठाता है। उन्होंने अंत में लिखा है कि डिप्टी कमांडेंट पर कार्रवाई होनी चाहिए, ताकि भविष्य में कोई जवान इस प्रकार का कदम न उठाये।

Tags: deth

About The Author

Tarunmitra Picture

‘तरुणमित्र’ श्रम ही आधार, सिर्फ खबरों से सरोकार। के तर्ज पर प्रकाशित होने वाला ऐसा समचाार पत्र है जो वर्ष 1978 में पूर्वी उत्तर प्रदेश के जौनपुर जैसे सुविधाविहीन शहर से स्व0 समूह सम्पादक कैलाशनाथ के श्रम के बदौलत प्रकाशित होकर आज पांच प्रदेश (उत्तर प्रदेश, बिहार, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश और उत्तराखण्ड) तक अपनी पहुंच बना चुका है। 

Latest News

सराहनीय पहल : डाॅ बीपी त्यागी बनाएंगे रैबीज मुक्त गाजियाबाद सराहनीय पहल : डाॅ बीपी त्यागी बनाएंगे रैबीज मुक्त गाजियाबाद
गाजियाबाद में बुधवार को दोपहर 3:00 बजे अवकेनिंग इंडिया फाउंडेशन और महाराणा प्रताप वीर शिरोमणि ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस रेबीज...
माहे मोहर्रम पर इमाम हुसैन की प्यासी सिद्दत की याद में शर्बत वितरण किया गया
मुहर्रम पर शहर में निकाला गया ताजिया जुलूस
अकीदत व एहतराम के साथ ऐतिहासिक मुहर्रम सम्पन्न
महिला से चेन छिनतई, जांच में जुटी पुलिस
हेमंत सोरेन ने जेल से बाहर आकर चम्पाई सोरेन का पॉलिटिकल मर्डर किया : हिमंत विस्व सरमा
एटीएम में कार्ड फंसा, 96 हजार रुपये की हुई निकासी