मनाही के बावजूद लखनऊ की चुनावी सभा में गरजे थे योगी

मनाही के बावजूद लखनऊ की चुनावी सभा में गरजे थे योगी

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की छवि फायर ब्रांड नेता की है। चुनाव सभाओं और रैलियों में योगी आदित्यनाथ को सुनने के लिए भारी भीड़ उमड़ती है। अपने अलग अंदाज और तेवरों के लिए प्रसिद्ध योगी आदित्यनाथ ने साल 2014 के उपचुनाव में लखनऊ में प्रशासन की मनाही के बावजूद पार्टी प्रत्याशी के पक्ष में मिनी ट्रक में खड़े होकर जनसभा को संबोधित किया था

2014 उपचुनाव में किया धुंआधार प्रचार-
सिंतबर 2014 में उत्तर प्रदेश की एक लोकसभा सीट मैनपुरी सहित कुल 10 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव हुआ। भाजपा के फायर ब्रांड योगी आदित्यनाथ उपचुनावों के लिए चुनाव प्रचार की कमान संभाले थे। गोरखपुर के तत्कालीन सांसद योगी आदित्यनाथ के तीखे भाषणों और प्रदेश सरकार पर हमलों से तत्कालीन समाजवादी पार्टी की सरकार बेचैन हो गई थी। गौतम बुद्ध नगर में दिए उनके भाषण पर चुनाव आयोग ने उन्हें नोटिस भी जारी किया था।योगी आदित्यनाथ के धुआंधार प्रचार से घबराई सपा सरकार ने 10 सिंतबर को तत्कालीन भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ.लक्ष्मीकांत बाजपेयी और योगी आदित्यनाथ की ठाकुरद्वारा, मैनपुरी और निघासन में सभाएं नहीं होने दीं। सुबह दस बजे सिक्योरिटी क्लीयरेंस के बावजूद दो बजे उनके हेलीकाप्टर को उड़ने की इजाजत नहीं दी गई।

लखनऊ में मनाही के बावजूद योगी ने की जनसभा-
2014 के उपचुनाव में लखनऊ पूर्वी विधानसभा सीट पर भी चुनाव हुआ। भाजपा के फायर ब्रांड नेता योगी आदित्यनाथ ने 10 सिंतबर को लखनऊ में गोपाल टंडन के समर्थन में एक जनसभा सम्बोधित की। जिला प्रशासन ने सांसद को जनसभा की इजाजत नहीं दी। लेकिन रोक के बावजूद योगी आदित्यनाथ शाम को जनसभा को संबोधित करने पहुंचे। जनसभा को देखते हुए सुरक्षा के भारी इंतजाम किये गए थे।

इन्दिरा नगर मुंशी पुलिया चौराहे पर परमिशन न मिलने पर मिनी ट्रक पर बने एक मंच से आदित्यनाथ ने भाजपा समर्थकों को सम्बोधित किया। योगी आदित्यनाथ करीब 7 बजे मुंशी पुलिया पहुंचे। उन्हें देखने और सुनने के लिए मुंशीपुलिया पर भारी भीड़ जमा थी। मुंशीपुलिया चौराहे पर बनी पुलिस चौकी के सामने मिनी ट्रक में खड़े होकर योगी आदित्यनाथ ने सपा सरकार और स्थानीय प्रशासन पर तीखे हमले किए। जनसभा में योगी के साथ भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मीकांत वाजपेयी भी मौजूद थे। इस मामले में चुनाव आयोग ने आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन मानते हुए लखनऊ के डीएम से दो दिनों के अंदर रिपोर्ट तलब की थी।

गौरतलब है लखनऊ पूर्वी सीट भाजपा नेता कलराज मिश्र का देवरिया से सांसद निर्वाचित होने के बाद ये सीट रिक्त हुई थी। इस सीट से भाजपा के वरिष्ठ नेता लालजी टण्डन के पुत्र आशुतोष टंडन गोपाल जी प्रत्याशी के तौर पर मैदान में थे। भाजपा प्रत्याशी गोपाल टंडन ने जीत हासिल की। उन्होंने सपा की जूही सिंह को 26 हजार 459 वोटों से हरा दिया। गोपाल टंडन को कुल 71 हजार 640 वोट मिले। सपा प्रत्याशी जूही सिंह को 45 हजार 181 वोट मिले, जबकि कांग्रेस के रमेश श्रीवास्तव 9 हजार 757 वोटों से संतोष करना पड़ा।

तीसरी बार मुंशीपुलिया में जनसभा को संबोधित करेंगे योगी आदित्यनाथ-
10 सिंतबर 2014 को लखनऊ पूर्वी विधानसभा उपचुनाव में योगी आदित्यनाथ ने जनसभा को पार्टी के प्रचार वाहन में ही खड़े होकर संबोधित किया था। इसके बाद 22 फरवरी 2022 को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लखनऊ पूर्व से भाजपा प्रत्याशी आशुतोष टंडन के समर्थन में जनसभा को संबोधित किया था। 17 मई 2024 को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ लखनऊ संसदीय सीट से प्रत्याशी राजनाथ सिंह और लखनऊ पूर्व सीट पर हो रहे उपचुनाव के प्रत्याशी ओम प्रकाश श्रीवास्तव के समर्थन में जनसभा को संबोधित करने आ रहे है। गौरतलब है कि लखनऊ पूर्व विधानसभा के विधायक आशुतोष टंडन गोपाल जी के निधन से रिक्त हुई लखनऊ पूर्व सीट पर उपचुनाव हो रहा है।

Tags: lucknow

About The Author

Latest News

मध्‍यप्रदेश के 20 जिलों में आज तेज बारिश की संभावना, बड़ा तालाब में बढ़ा जलस्‍तर मध्‍यप्रदेश के 20 जिलों में आज तेज बारिश की संभावना, बड़ा तालाब में बढ़ा जलस्‍तर
भोपाल। राजधानी भोपाल समेत प्रदेश के कई जिलों में बारिश का सिलसिला जारी है। भोपाल शहर में रविवार सुबह फुहारें...
 21 जुलाई के बाद स्मार्ट मीटर होंगे प्रीपेड
मुंबई में भारी बारिश से कई इलाकों में जलभराव, पश्चिम रेलवे यातायात बाधित
 मुख्यमंत्री साय आज जशपुर जिला के दाैरे पर
नेपाल बस दुर्घटना : तीन दिनों में सिर्फ 5 शव बरामद, हादसे के बाद कुल 65 लोग हुए थे लापता
नेपाल से प्रतिदिन 800 मेगावाट से अधिक बिजली खरीद रहा भारत
खुद के सम्मान का मार्ग प्रशस्त करना हो तो दूसरों को सम्मान दीजिए : सोनल नागर