बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम सुशील मोदी का दिल्ली AIIMS में निधन

72 साल की उम्र में निधन : आज पटना आएगा पार्थिव शरीर

बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम सुशील मोदी का दिल्ली AIIMS में निधन

पटना : बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम सुशील मोदी का 72 साल की उम्र में निधन हो गया. उन्होंने दिल्ली एम्स में अंतिम सांस ली. सुशील मोदी का नाम जब दोबारा राज्यसभा के लिए नामित नहीं हुआ तभी उन्होंने बताया था ''पिछले 6 माह से कैंसर से संघर्ष कर रहा हूँ. अब लगा कि लोगों को बताने का समय आ गया है. लोकसभा चुनाव में कुछ कर नहीं पाऊँगा. PM को सब कुछ बता दिया है. देश, बिहार और पार्टी का सदा आभार और सदैव समर्पित.''

सुशील मोदी का जन्म 5 जनवरी 1952 को पटना में हुआ था. बिहार के जाने माने नेता थे. भारतीय जनता पार्टी में बतौर नेता और बिहार के तीसरे उप मुख्यमंत्री रह चुके हैं. इसके अलावे बिहार के वित्त मंत्री भी रह चुके हैं. सोमवार की शाम उनका निधन हो गया.

संघर्ष भरा रहा जीवन : बी.एन. कॉलेज से पटना बीएससी से पढ़ाई छोड़ कर जय प्रकाश नारायण के साथ आंदोलन में कूद गए थे. यहीं से इनका राजनीतिक करियर शुरू हो गया था. 1990 में सक्रिय रूप से राजनीति में आए. पहली बार पटना के कुम्हार विधानसभा क्षेत्र से निर्वाचित हुए थे. वह बिहार से राज्यसभा सांसद भी रह चुके थे. सुशील मोदी बिहार की राजनीति में एक बड़ा चेहरा था.भाजपा ने बिहार विधानसभा दल के मुख्य सचेतक बनाया था.

सुशील मोदी का राजनीतिक सफर : 1996 से 2004 तक बिहार विधानसभा में विपक्ष के नेता रहे थे. 2004 में ही भागलपुर लोकसभा सीट से सांसद बने और पहली बार सदन पहुंचे थे. 2005 में बिहार में एनडीए की सरकार बनी और सुशील मोदी को विधानमंडल दल का नेता चुना गया. उन्होंने बाद में सांसद के पद से इस्तीफा देकर बिहार के उपमुख्यमंत्री बने.

चारों सदन के रह चुके हैं सदस्य : सुशील मोदी ऐसे सदस्य रहे हैं जो कि लोकसभा, राज्यसभा, विधानसभा और विधान परिषद के रह चुके हैं. सुशील मोदी 2010 में भी एनडीए की सरकार में बिहार में डिप्टी सीएम बने थे. हालांकि इसके बाद इन्हें राज्यसभा भेजा गया. था. इसी साल 2024 में इनका कार्यकाल समाप्त हो गया था. लोकसभा चुनाव में भी भूमिका नहीं निभाने की बात कही थी. उन्होंने अपने ट्वीटर हैंडल के जरिए कहा था कि वे कैंसर से पीड़ित हैं.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जताई शोक संवेदना : पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी के निधन पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गहरी शोक संवेदना व्यक्त की है. उन्होंने कहा कि बिहार के लिए यह बड़ी क्षति है. बता दें कि बिहार में नीतीश कुमार के नेतृत्व में जब सरकार बनी थी सुशील मोदी उपमुख्यमंत्री और वित्त मंत्री बने थे. नीतीश और सुशील मोदी की जोड़ी चर्चा में भी रही.

लालू यादव ने कहा, ''पटना यूनिवर्सिटी छात्र संघ के समय यानि विगत 51-52 वर्षों से हमारे मित्र भाई सुशील मोदी के निधन का अति दुःखद समाचार प्राप्त हुआ. वे एक जुझारू, समर्पित सामाजिक राजनीतिक व्यक्ति थे. ईश्वर दिवगंत आत्मा को चिरशांति तथा परिजनों को दुख सहने की शक्ति प्रदान करें.

बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष व उप मुख्यमंत्री सम्राट चौधरी ने कहा कि, ''बिहार के पूर्व उप मुख्यमंत्री व पूर्व राज्यसभा सांसद सुशील कुमार मोदी जी के निधन पर उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि. यह बिहार भाजपा के लिए अपूरणीय क्षति है.''

केन्द्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने भी सुशील मोदी के निधन पर गहरा शोक प्रकट किया है. उन्होंने सोशल मीडिया साइट X पर लिखा, ''हमारे परिवार के वरिष्ठ सदस्य सुशील मोदी जी का निधन हो गया है. यह हम सभी के लिए किसी बड़े सदमे से कम नहीं है. बिहार भाजपा और बिहार को आगे बढ़ाने में उनके योगदान को भाजपा और बिहार कभी नहीं भूलेगा. इस कठिन समय में उनके परिवारऔर उनको चाहने वालों के प्रति मेरी हार्दिक संवेदनाएं.''

बिहार के पूर्व मंत्री व लालू प्रसाद यादव के बेटे तेज प्रताप यादव ने कहा कि, ''बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी जी अब हमारे बीच नहीं रहे. ईश्वर दिवगंत आत्मा को चिरशांति और परिजनों को इस शोक की घड़ी में सम्बल प्रदान करे.''

पूर्व उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी के निधन पर स्वास्थ्य एवं कृषि मंत्री मंगल पांडेय ने शोक व्यक्त की है. मंगल पांडेय ने कहा कि उनके निधन से बिहार और देश की राजनीति को अपूरणीय क्षति हुई है, जिसकी भरपाई मुश्किल है .

Tags:

About The Author

Tarunmitra Picture

‘तरुणमित्र’ श्रम ही आधार, सिर्फ खबरों से सरोकार। के तर्ज पर प्रकाशित होने वाला ऐसा समचाार पत्र है जो वर्ष 1978 में पूर्वी उत्तर प्रदेश के जौनपुर जैसे सुविधाविहीन शहर से स्व0 समूह सम्पादक कैलाशनाथ के श्रम के बदौलत प्रकाशित होकर आज पांच प्रदेश (उत्तर प्रदेश, बिहार, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश और उत्तराखण्ड) तक अपनी पहुंच बना चुका है। 

Latest News