महायोगी गोरखनाथ विवि को मिला मेदांता हॉस्पिटल का साथ*:

गंभीर मरीजों को इलाज के लिए अब नहीं लगानी पड़ेगी लखनऊ की दौड़*

महायोगी गोरखनाथ विवि को मिला मेदांता हॉस्पिटल का साथ*:

महायोगी गोरखनाथ चिकित्सालय बालापार और गुरु श्री गोरक्षनाथ चिकित्सालय गोरखनाथ की आईसीयू समेत सभी क्रिटिकल मामलों में मिलेगी मेदांता के विशेषज्ञों की सेवा*

×गोरखपुर, । गोरखपुर समेत आसपास के जिलों के लोगों को चिकित्सा सेवा के क्षेत्र में एक और महत्वपूर्ण सुविधा मिलने जा रही है। कई मामलों में लखनऊ की दौड़ लगाने वाले मरीजों को चिकित्सा क्षेत्र के ख्यातिलब्ध संस्थान मेदांता अस्पताल के विशेषज्ञों की सेवा यहीं उपलब्ध कराने के लिए इस संस्थान और महायोगी गोरखनाथ विश्वविद्यालय, आरोग्यधाम बालापार ने साझा पहल की है। इसके परिणामस्वरूप जल्द ही मेदांता के विशेषज्ञ चिकित्सकों की टेली आईसीयू व अन्य कई सेवाएं महायोगी गोरखनाथ विश्वविद्यालय परिसर के महायोगी गोरखनाथ चिकित्सालय और गुरु श्री गोरक्षनाथ चिकित्सालय गोरखनाथ में मिलने लगेंगी। 

मेदांता अस्पताल लखनऊ और महायोगी गोरखनाथ विश्वविद्यालय जल्द ही एमओयू करके इस पहल को अमलीजामा पहना देंगे। एमओयू के पूर्व गुरुवार को मेदांता आईसीयू ग्रुप के डायरेक्टर एंड हेड डॉ. दिलीप दूबे और मेदांता इमरजेंसी सर्विसेज के एसोसिएट डायरेक्टर लोकेंद्र गुप्ता ने बालापार स्थित महायोगी गोरखनाथ विश्वविद्यालय/चिकित्सालय का दौरा किया। इस दौरान उन्होनें चिकित्सालय
का भ्रमण कर उपलब्ध सेवाओं और व्यवस्थाओं का जायजा लिया। 

इसके बाद मेदांता से आए वरिष्ठ प्रतिनिधियों ने विश्वविद्यालय के कुलपति मेजर जनरल डॉ. अतुल वाजपेयी, गुरु श्री गोरक्षनाथ चिकित्सालय के डायरेक्टर ब्रिगेडियर डीसी ठाकुर, विश्वविद्यालय परिसर स्थित चिकित्सालय के डायरेक्टर कर्नल राजेश बहल के साथ बैठक की। यह तय किया गया कि महायोगी गोरखनाथ चिकित्सालय बालापार, गुरु श्री गोरक्षनाथ चिकित्सालय गोरखनाथ और महायोगी गोरखनाथ विश्वविद्यालय मरीजों को 24/7 सुपरस्पेशलिटी आईसीयू सेवाएं प्रदान करने के लिए अत्याधुनिक मेदांता टेली-आईसीयू की सेवाओं से खुद को जोड़ेंगे। यहां के दोनों चिकित्सालयों में मरीजों को मेदांता के विशेषज्ञ चिकित्सक ऑनलाइन देखेंगे। इसके लिए कई सुपरस्पेशलिटी सेवाओं को चयनित किया जाएगा। 

दोनों संस्थानों के बीच आईसीयू डॉक्टरों और नर्सिंग स्टाफ के प्रशिक्षण को लेकर भी चर्चा हुई। मेदांता यहां पर वेंटिलेटर मशीन और सीपीआर का भी अत्याधुनिक प्रशिक्षण उपलब्ध कराएगा। एक अहम चर्चा किडनी के रोगियों की डायलिसिस और किडनी प्रत्यारोपण को लेकर भी हुई। इसके लिए मेदांता की किडनी ट्रांसप्लांट टीम यहां आकर ओपीडी सेवा उपलब्ध कराएगी। इस अवसर पर महायोगी गोरखनाथ विश्वविद्यालय परिसर स्थित चिकित्सालय के आईसीयू प्रभारी डॉ. प्रदीप श्रीवास्तव और गुरु श्री गोरक्षनाथ चिकित्सालय के आईसीयू प्रभारी डॉ. राजीव श्रीवास्तव भी मौजूद रहे।

*मेदांता प्रमुख से कुलसचिव की वार्ता, एमओयू शीघ्र*
मेदांता अस्पताल लखनऊ की टीम के दौरे के बाद गुरुवार शाम को महायोगी गोरखनाथ विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ. प्रदीप कुमार राव की मेदांता समूह के संस्थापक डॉ नरेश त्रेहन से दूरभाष पर वार्ता भी हुई। डॉ त्रेहन ने महायोगी गोरखनाथ चिकित्सालय बालापार एवं गुरु श्री गोरक्षनाथ चिकित्सालय गोरखनाथ में मेदांता की तरफ से टेली आईसीयू और अन्य सेवाओं को लेकर उत्सुकता व्यक्त की। विश्वविद्यालय की कुलसचिव डॉ राव ने बताया कि जल्द ही चिकित्सा सेवा के क्षेत्र में एक नया अध्याय शुरू करने के लिए महायोगी गोरखनाथ विश्वविद्यालय और मेदांता अस्पताल लखनऊ के बीच एमओयू (समझौता करार) किया जाएगा।

Tags:

About The Author

Related Posts

Latest News

संविधान की हत्या करने वाली कांग्रेस के साथ सिर्फ सत्ता के लिए झामुमो गलबहियां कर रहा संविधान की हत्या करने वाली कांग्रेस के साथ सिर्फ सत्ता के लिए झामुमो गलबहियां कर रहा
रांची। भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता प्रतुल शाह देव ने शनिवार काे झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमाे) की प्रेसवार्ता पर पलटवार करते...
सरैयाहाट में दो भाई बहनों से पूछताछ कर मुंबई पुलिस वापस लौटी
मुख्यमंत्री बहन-बेटी माई-कुई योजना के फर्जी फॉर्म मिलने की शिकायत: डीसी
जिला खनन टास्क फोर्स टीम की बड़ी कार्रवाई, दर्जनों कोयला खदान को किया डोजरिंग
राष्ट्रीय लोक अदालत में 12,269 वादों का निष्पादन, करीब नाै करोड़ की वसूली
संविधान हत्या दिवस मनाने के केंद्र सरकार के फैसले पर झामुमो ने उठाए सवाल
राष्ट्रीय लोक अदालत में कुल 86638 वादों का निष्पादन