बच्चे ऐसी गलती न करें, परिवार पर संकट आये: धर्मवीर

बीकेटी स्थित संस्थान में संवाद के दौरान कारागार मंत्री ने कहीं ये बातें

बच्चे ऐसी गलती न करें, परिवार पर संकट आये: धर्मवीर

  • बोले, पहले बुजुर्ग बताते थे, अब बच्चों से पूछा जाता है क्या करना है
  • खेल के अनुशासन से शिक्षा को सफल बनाने में मदद मिलती है: चौहान
लखनऊ। माता-पिता व परिवारीजनों के दिशानिर्देश और सुझावों पर अमल करते हुए अपना लक्ष्य निर्धारित करें। ऐसी कोई गलती न करें, जिससे कि आपके परिवार का और भविष्य पर किसी भी प्रकार का नकारात्मक प्रभाव न पड़े। आपकी एक गलती पूरे परिवार को संकट में डाल देती है। परिवार आपकी एक गलती के कारण समाज में अलग-थलग पड़ जाता है। बेटी की शादी से लेकर आर्थिक संकट तक का सामना पूरे परिवार को करना पड़ता है।
 
यह बातें उत्तर प्रदेश के कारागार एवं होमगाडर््स राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) धर्मवीर प्रजापति ने शनिवार को बीकेटी स्थित एसआर ग्रुप ऑफ इन्टीट्यूशन्स में बच्चों के साथ संवाद के दौरान कही। उन्होंने कहा कि जेलों के निरीक्षण और बन्दियों के साथ संवाद करने के पश्चात वहां की की स्थिति देखकर कालेजों/स्कूलों के बच्चों के साथ संवाद करने का विचार आया।
 
डॉॅ. अब्दुल कलाम इण्टर टेक्निकल स्पोर्ट्स फेस्ट-2023 में बतौर मुख्य अतिथि शामिल हुए। कारागार मंत्री ने बच्चों को पर्यावरण एवं जल संरक्षण के विषय पर जागरूक किया। उन्होंने कहा कि आज भूमिगत जल का दोहन अत्यधिक बढ़ जाने के कारण भू-जलस्तर दिन-प्रतिदिन नीचे गिरता जा रहा है। इसी प्रकार पेड़-पौधों की कमी के कारण पर्यावरण भी न केवल प्रदूषित हो रहा है, बल्कि प्रकृति पर भी इसका प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है। प्रकृति का संरक्षण एवं संवर्द्धन जरूरी है। यह बातें आप सभी इसलिए करना जरूरी है, क्योंकि आने वाला कल आपका ही है। आप देश के भविष्य हो।
 
उन्होंने संवाद के दौरान कहा कि यह जानकर बहुत कष्ट होता है कि 40 वर्ष से कम आयु का 80 प्रतिशत युवा जेलों में है। बच्चे देश-प्रदेश का भविष्य यदि न बन पाये तो कम-से-कम अपने परिवार का तो भविष्य होता ही है। जिस परिवार का भविष्य जेलों में हो उस परिवार पर क्या बीतती होगी, इसका अंदाजा लगाना भी बहुत कठिन है। कहा कि पहले बुजुर्गों से पूछा जाता था कि क्या करना है और कैसे कराना है, परन्तु अब समय के साथ बदलाव आया है। अब बच्चों से पूछा जाता है कि क्या करना है। एमएलसी पवन सिंह चौहान ने कहा कि खेल के अनुशासन से शिक्षा में सफल बनने में मदद मिलती है। 
 
Tags: lucknow

About The Author

Latest News

रिम्स में राज्य का पहला सर्जिकल स्किल और वेट लैब स्थापित रिम्स में राज्य का पहला सर्जिकल स्किल और वेट लैब स्थापित
रांची। रिम्स के क्षेत्रीय नेत्र संस्थान में राज्य का पहला सर्जिकल स्किल एवं वेट लैब स्थापित किया गया है। रिम्स...
मुख्यमंत्री चम्पाई सोरेन चार मार्च को जाएंगे गिरिडीह
मतदान के प्रति जागरूक करना हमारी नैतिक जिम्मेवारी: निदेशक
सीआईडी ने दो साइबर अपराधी को किया गिरफ्तार
जबलपुर इंजीनियरिंग कालेज को "टेक्नोलॉजी हब" बनाने की दिशा में हो क्रियान्वयन: मंत्री परमार
मंत्री कृष्णा गौर ने की गुफा मंदिर में महाशिवरात्रि आयोजन की तैयारियों की समीक्षा
अपने लोगों पर गर्व करने की परंपरा करनी होगी विकसित: उच्च शिक्षा मंत्री परमार