तीन साल से लेनदेन नहीं होने पर डाकघरों के 2.39 लाख खाते हुए बंद

तीन साल से लेनदेन नहीं होने पर डाकघरों के 2.39 लाख खाते हुए बंद

मुरादाबाद, 29 नवम्बर। मुरादाबाद जनपद के डाकघरों में खोले गए 2.39 लाख खातों में पिछले तीन साल से कोई लेनदेन नहीं होने वाले इन खातों को निष्क्रिय श्रेणी में डालकर बंद कर दिया गया है। इनमें जीरो बैलेंस के बचत खातों की संख्या सबसे अधिक है। अब इन खातों को दोबारा से सक्रिय करने के लिए विभाग विशेष अभियान चलाने की योजना बनाएगा।

जिले में एक प्रधान डाकघर और 37 डाकघर हैं। इसके अलावा 120 उप डाकघर भी हैं। इन डाकघरों में ग्राहकों के 4 लाख 98 हजार 4 सौ 11 खाते संचालित हैं। इसमें अधिकांश बचत खाते हैं। सरकारी योजनाओं का लाभ लेने के लिए भी खाते खोले गए हैं। 4.98 लाख खातों में से 2.39 लाख खाते ऐसे हैं, जिनमें तीन साल से अधिक समय से लेनदेन पूरी तरह से बंद है।

जानकारी के अनुसार जिले में करीब 5 लाख डाक खातों में से 2 लाख से अधिक खाते निष्क्रिय हैं। वहीं मुरादाबाद जोन में निष्क्रिय खातों की संख्या चार लाख से अधिक हैं। जबकि कुल खातों की संख्या करीब नौ लाख है। खाताधारकों ने इन खातों के संचालन में कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई। बाद में केवाईसी प्रक्रिया पूरी करने के बाद ही खाता दोबारा सक्रिय हो सकता है। डाक विभाग ने इन निष्क्रिय खातों को दोबारा से सक्रिय बनाने के लिए खाताधारकों से संपर्क करने की योजना बना रहा है। इन खाताधारकों को विभाग की ओर से पत्र भेजा जाएगा। खाताधारकों खाता संचालन में दिलचस्पी नहीं दिखाई तो इसकी रिपोर्ट मुख्यालय को भेज दी जाएगी।

डाक विभाग उपाधीक्षक विजयवीर सिंह ने बताया कि मुरादाबाद जनपद में डाकघरों में कुल 498411 खाते लाख 39 हजार खाते निष्क्रिय हैं। इनमें सर्वाधिक जीरो बैलेंस वाले बचत खाते हैं। जो केवाईसी प्रक्रिया पूरी न होने से असक्रिय बने हुए हैं। डाक विभाग के अधिकारियों द्वारा अधिकतम खातों को सक्रिय करवाने के लिए अभियान चलाया जाएगा।

डाक विभाग उपाधीक्षक विजयवीर सिंह ने बताया कि जो खाते निष्क्रिय श्रेणी में डाले गए हैं, उन्हें दोबारा शुरू कराने के लिए खाताधारकों को केवाईसी देनी होगी। साथ ही जरूरी प्रमाणपत्रों के साथ प्रार्थनापत्र देना होगा। यदि खाताधारक के नॉमिनी आते हैं तो उन्हें भी संबंधित प्रक्रिया पूरी करनी होगी। हिन्दुस्थान समाचार/निमित जायसवाल

खातों के निष्क्रिय होने होने के मुख्य कारण
डाक विभाग उपाधीक्षक विजयवीर सिंह ने बताया कि खातों के निष्क्रिय होने होने के मुख्य कारणों में केवाईसी प्रक्रिया पूरी न होना, खाताधारक द्वारा खाते की गतिविधि बंद हो जाना, खाताधारक की मृत्य हो जाना हैं। वहीं विभाग की ओर से ड्राइव चलाकर खोले गए अधिकतर खातें निष्क्रिय हो जाते हैं। बहुत से खाताधारक केवल सरकारी योजनाओं का लाभ लेने के लिए डाकघरों में खाते खुलवा लेते हैं, बाद में वह खाते निष्क्रिय हो जाते हैं।

मुरादाबाद जोन के 4 जिलों में 3 प्रधान डाकघर, 77 डाकघर और 405 उप डाकघर
डाक विभाग उपाधीक्षक विजयवीर सिंह ने बताया कि मुरादाबाद जोन में चार जिले मुरादाबाद, संभल, अमरोहा और रामपुर शामिल है। इसमें 3 प्रधान डाकघर, 77 डाकघर और 405 उप डाकघर हैं। संभल का प्रधान डाकघर नहीं हैं।

Tags:

About The Author

Tarunmitra Picture

‘तरुणमित्र’ श्रम ही आधार, सिर्फ खबरों से सरोकार। के तर्ज पर प्रकाशित होने वाला ऐसा समचाार पत्र है जो वर्ष 1978 में पूर्वी उत्तर प्रदेश के जौनपुर जैसे सुविधाविहीन शहर से स्व0 समूह सम्पादक कैलाशनाथ के श्रम के बदौलत प्रकाशित होकर आज पांच प्रदेश (उत्तर प्रदेश, बिहार, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश और उत्तराखण्ड) तक अपनी पहुंच बना चुका है। 

Latest News

कच्चा तेल 84 डॉलर प्रति बैरल के करीब, पेट्रोल-डीजल की कीमत स्थिर कच्चा तेल 84 डॉलर प्रति बैरल के करीब, पेट्रोल-डीजल की कीमत स्थिर
नई दिल्ली। अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के मूल्य में उतार-चढ़ाव जारी है। ब्रेंट क्रूड का मूल्य 84 डॉलर और...
आज बढ़त के साथ खुला शेयर बाजार, सेंसेक्स 81 अंक उछला
मणिपुर पुलिस ने 170 लोगों को लिया हिरासत में
आईपीएस का तबादला, पियूष पांडेय बने रांची के ग्रामीण एसपी
हिमाचल प्रदेश में स्पीकर ने कांग्रेस के छह विधायकों को दल-बदल विरोधी कानून के तहत अयोग्य घोषित किया
आईवीपीएल: मुंबई चैंपियंस ने वीवीआईपी उत्तर प्रदेश को 8 विकेट से हराया, सहवाग का दिखा जलवा
पीकेएल 10: खिताबी मुकाबले में हरियाणा स्टीलर्स का सामना पुनेरी पलटन से