अनुपस्थित अभ्यर्थियों को काउंसलिंग के लिए बुधवार को एक और मौका

अनुपस्थित अभ्यर्थियों को काउंसलिंग के लिए बुधवार को एक और मौका

जयपुर। स्कूल लेक्चरर फिजिकल एजुकेशन की पूर्व में हुई काउंसलिंग में अनुपस्थित अभ्यर्थियों को एक और मौका दिया गया है। राजस्थान लोक सेवा आयोग द्वारा इन अभ्यर्थियों की काउंसलिंग बुधवार उनतीस नवंबर सुबह दस बजे से होगी। आयोग सचिव रामनिवास मेहता ने बताया कि आयोग ने इसका कार्यक्रम पूर्व में ही जारी कर दिया था। अभ्यर्थियों की सूची आयोग की वेबसाइट पर उपलब्ध है। इस परीक्षा के तहत विचारित सूची में सम्मिलित अभ्यर्थियों की काउंसलिंग का आयोजन सात अक्टूबर 2023 को किया गया था। इसमें अनुपस्थित रहे अभ्यर्थियों को आयोग द्वारा पात्रता जांच के लिए तथा प्रोविजनल रहे अभ्यर्थियों को वांछित दस्तावेज के साथ उपस्थित होने के लिए पच्चीस अक्टूबर एवं दो नवंबर को सूचित किया गया था। इस पर भी चौसठ अभ्यर्थी अनुपस्थित तथा वांछित दस्तावेजों के अभाव में आठ अभ्यर्थी प्रोविजनल रहे। 29 नवंबर को भी अनुपस्थित रहने पर आयोग द्वारा अभ्यर्थी को कोई अन्य अवसर प्रदान नहीं किया जाएगा तथा न ही ऐसे अभ्यर्थियों को मुख्य परीक्षा परिणाम के लिए विचारित किया जाएगा।

इसके अलावा आयोग द्वारा चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सेवाएं विभाग के ऑक्यूपेशनल थेरेपिस्ट एवं हॉस्पिटल केयर टेकर भर्ती वर्ष 2021-22 के पदों की काउंसलिंग के लिए प्रदत्त अवसरों में भी अनुपस्थित रहे अभ्यर्थियों को अंतिम अवसर प्रदान किया गया है। इन अभ्यर्थियों को एक दिसंबर 2023 को प्रातः साढे नौ बजे आयोग कार्यालय में उपस्थित होना होगा। विस्तृत सूचना आयोग की वेबसाइट पर उपलब्ध है।

Tags:

About The Author

Latest News

मुख्यमंत्री ने 50 आदिवासी युवाओं को सोलर पैनल, सोलर लाइट और ट्रेवलिंग बैग किया वितरित मुख्यमंत्री ने 50 आदिवासी युवाओं को सोलर पैनल, सोलर लाइट और ट्रेवलिंग बैग किया वितरित
रायपुर।रायपुर के स्वामी विवेकानंद एयरपोर्ट में गुरुवार सुबह दिल्ली रवाना होने से पहले मुख्यमंत्री विष्णुदेव साय ने 50 आदिवासी युवाओं...
पंचायत सीईओ के सुरक्षाकर्मी ने खुद को गोली मारकर की आत्महत्या
राजिम कुंभ कल्प में तीन मार्च से शुरू होगा विराट संत समागम
लेजर लाइट और सतरंगी रंगों से जगमगा रहा छत्तीसगढ़ का राजिम कुंभ कल्प
प्रख्यात पुरातत्ववेत्ता पद्मश्री अरुण कुमार शर्मा का 92 वर्ष की आयु में निधन
कांग्रेस पराजित मनोबल और हताशा की शिकार : नितिन नवीन
 तय समय से पहले समाप्त हुआ बजट सत्र