सोलर पैनल से जगमग होंगे जिले के गौआश्रय स्थल

प्रत्येक ब्लाक के 02 आश्रय स्थलों के लिए मांगा गया प्रस्ताव

सोलर पैनल से जगमग होंगे जिले के गौआश्रय स्थल

अभिलेखों के रख-रखाव पर डीएम ने पंचायत सचिव को दी शाबाशी

बहराइच । जिले में संचालित गोआश्रय स्थलों में संरक्षित गोवंशों के भरण-पोषण हेतु उपलब्ध करायी गई धनराशि के उपभोग, आश्रय स्थलों की तिथिवार निरीक्षण आख्या, मुख्यमंत्री प्रगतिशील पशुपालन एवं सहभागिता योजना एवं गोवंशों की ईयर टैगिंग इत्यादि, वृहद गोआश्रय स्थलों के निर्माण के प्रगति  की समीक्षा हेतु कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित बैठक की अध्यक्षता करते हुए जिलाधिकारी मोनिका रानी ने खण्ड विकास अधिकारियों को निर्देश दिया कि प्रत्येक विकास खण्ड में आवश्यकता के अनुरूप 02-02 अस्थायी गोआश्रय स्थलों में क्रिटिकल गैप योजना से सोलर पैनल स्थापना के लिए प्रस्ताव उपलब्ध कराया जाय।

डीएम ने यह भी सुझाव दिया कि यूपी नेडा विभाग से समन्वय कर आश्रय स्थलों में चारा कटिंग मशीन के संचालन, प्रकाश तथा पेयजल की उपलब्धता को ध्यान में रखते हुए पर्याप्त क्षमता वाले अच्छी क्वालिटी के सोलर पैनल का प्रस्ताव भिजवाना सुनिश्चित करें।जिले में संचालित गोआश्रय स्थलों के भ्रमण एवं निरीक्षण आख्या की समीक्षा के दौरान डीएम मोनिका रानी ने पशुपालन विभाग के अधिकारियों व खण्ड विकास अधिकारियों को निर्देश दिया कि एम सप्ताह के अन्दर समस्त गोआश्रय स्थलों का निरीक्षण कर आख्या उपलब्ध कराएं।

भरण-पोषण धनराशि के उपभोग की समीक्षा के दौरान डीएम ने खण्ड विकास अधिकारियों को निर्देश दिया कि जनपद के समस्त गोआश्रय स्थलों में प्रातःकाल चरी-चारा-भूसा खिलाने के कार्य की वीडियोग्राफी कराकर उसे अभिलेखीय साक्ष्य के रूप में संरक्षित रखा जाय।विकास खण्ड पयागपुर के ग्राम गेंधरिया के गौशाला से सम्बन्धित समस्त पंजिकाओं का निरीक्षण के दौरान योजनावार तैयार किये गये अभिलेखों के रख-रखाव पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए डीएम मोनिका रानी ने पंचायत सचिव महेश प्रताप के कार्यों एवं प्रयासों की सराहना करते हुए निर्देश दिया कि अन्य सभी गौआश्रय स्थलों पर ऐसे ही अभिलेखो का रख-रखाव किया जाय।

गौआश्रय स्थलों में संरक्षित शत-प्रतिशत गोवंशों की ईयर टैगिंग कर उनसे सम्बन्धित पंजिकाओं को भी अद्यतन रखा जाय।डीएम ने खण्ड विकास अधिकारियों को निर्देश दिया कि जिले में संचालित गो आश्रय स्थल से सम्बन्धित ग्राम सचिवों व ग्राम प्रधानों के माध्यम से गोआश्रय स्थलों पर २ासन द्वारा निर्धारित मानक के अनुसार संरक्षित गोवंशों के लिए भूसा, चारा, पानी, हरा चारा व २ोल्टर इत्यादि का प्रबन्ध सुनिश्चित किया जाय। मुख्य पशु चिकित्साधिकारी को निर्देश दिया गया कि मानक के अनुपार गो आश्रय स्थल पर संरक्षित गोवंशों के उपचार के प्रबन्ध सुनिश्चित कराए जाएं।

समस्त बीडीओ को निर्देश दिया गया कि ग्राम के भ्रमण के दौरान मुख्यमंत्री सहभागिता योजना के तहत लाभार्थियों को दान किये गये गोवंशों के बारे में भी फीड बैक प्राप्त करें तथा राष्ट्रीय आजीविका मिशन के तहत ग्राम में गठित स्वयं सहायता समूहों को कृषि आधारित हैण्डीक्राफ्ट के लिए प्रेरित किया जाय।इस अवसर पर जिला विकास अधिकारी महेन्द्र कुमार पाण्डेय, उपायुक्त मनरेगा के.डी. गोस्वामी, मुख्य पशु चिकित्साधिकारी राजेश कुमार उपाध्याय, उप मुख्य पशु चिकित्साधिकारी, खण्ड विकास अधिकारी, पशु चिकित्साधिकारी तथा अन्य सम्बन्धित मौजूद रहे।                    

Tags: Bahraich

About The Author

Latest News