बीएसवी ने एफओजीएसआई के साथ गठबंधन किया

पटना: भारत में अग्रणी बायोफार्मास्युटिकल कंपनी भारत सीरम्स एण्ड वैक्सीन्स लिमिटेड (बीएसवी) ने फेडरेशन ऑफ ऑब्स्टेट्रिक एण्ड गायनेकोलॉजिकल सोसायटीज ऑफ इंडिया (एफओजीएसआई) की स्टडी ऑन फीमेल ब्रेस्ट कमिटी के साथ गठबंधन किया है। यह गठबंधन रिश्ता इनिशिएटिव 2024 के माध्यम से स्तनपान एवं प्रसव के बाद की देखभाल पर जागरूकता बढ़ाने के लिये किया गया है। रिश्ता पहल स्तनपान से स्वास्थ्य को मिलने वाले फायदों पर चिकित्सा-सहायकों को शिक्षित करते हुए स्तनपान के लिये अनुकूल एवं सहयोगी परितंत्र को बढ़ावा देने की एक कोशिश है। इसमें नई माताओं की भावनात्मक एवं मानसिक तंदुरुस्ती का ध्यान भी रखा जाता है। रिश्ता 2024 प्रशिक्षण के दो फॉर्मेट्स पर केन्द्रित हैः एक कार्यक्रम चिकित्सा पेशेवरों को ट्रेन द ट्रेनर प्रोग्राम के माध्यम से शिक्षित करने पर केन्द्रित है। अपने पहले चरण में यह छह शहरों में पायलट के तौर पर चलेगा। अनुभवी गायनेकोलॉजिस्ट्स सत्रों का संचालन करेंगे और इसमें नई दिल्लीबरेलीपटनालखनऊफरीदाबाद और देहरादून को शामिल किया जाएगा। दूसरे कार्यक्रम में चिकित्सा-सहायकों के लिये ऑनलाइन प्रशिक्षण होगा। इसमें स्तनपान की तकनीकों पर प्रशिक्षण सात वेबिनारों के माध्यम से मातृभाषाओं में दिया जाएगा।

एफओजीएसआई के प्रेसिडेंट डॉ. जयदीप टांक ने बतायाहमने स्वास्थ्यरक्षा पेशेवरों के लगातार प्रशिक्षण एवं कौशल विकास पर जोर दिया है। यह प्रसव के दौरान एवं नवजात शिशु की देखभाल में गुणवत्ता बढ़ाने की एफओजीएसआई की रणनीति के अनुरूप है। रिश्ता 2024 को लेकर हम बीएसवी के साथ गठजोड़ करते हुए खुश हैंजोकि महिलाओं की स्वास्थ्यरक्षा में एक अग्रणी कंपनी है। हम लगातार शिक्षा प्रदान करेंगे और स्वास्थ्यरक्षा प्रदाताओं को नवजात शिशुओं की अत्याधुनिक देखभाल प्रदान करने के लिये नई-नई प्रगतियों एवं सबसे बेहतरीन अभ्यासों पर अपडेट रखेंगे। यह पहल चिकित्सा शिक्षा में उत्कृष्टता और मातृत्व के सुरक्षित अभ्यासों के माध्यम से मातृत्व एवं नवजात शिशुओं की देखभाल को उन्नत बनाने के लिये हमारी स्पष्ट प्रतिबद्धता दिखाती है।

इंडिया बिजनेसबीएसवी के सीओओ आलोक खेत्री के अनुसारमहिलाओं की सेहत के लिये एक प्रतिबद्ध कंपनी होने के नाते हेल्दी भारत’ बनाने की कोशिशें करना हमारी जिम्मेदारी है। इसके अनुसार हम एफओजीएसआई के साथ गठजोड़ कर और रिश्ता के साथ जुड़कर बहुत खुश हैं। रिश्ता पहल नवजात शिशुओं और माताओं की सेहत के लिये स्तनपान के महत्व को बढ़ावा देती है। हमें विश्वास है कि ऐसे गठजोड़ स्तनपान के सुरक्षित अभ्यासों और स्तनपान की परेशानियों का जल्दी पता लगाने पर जागरूकता फैलाने में हमारी मदद करेंगे। यह व्यवहार कौशल विकसित करने पर फोकस करेंगेजैसे कि नई माताओं के साथ स्तनपान की चिंताओं पर बात करते हुए संवेदनशील एवं समानुभूति वाला संवाद करना। आइयेहम साथ मिलकर उज्जवल एवं अधिक स्वस्थ भविष्य के लिये सकारात्मक बदलाव को प्रेरित करें।

स्टडी ऑन फीमेल ब्रेस्ट कमिटीएफओजीएसआई की चेयरपर्सन डॉ. चारुलता बापाई ने कहानये नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे  (NFHS-5) 2019-21) के अनुसार 2015-16 और 2019-21 के बीच सिर्फ स्तन का दूध पीने वाले बच्चों का प्रतिशत 55 प्रतिषत से बढ़कर 64 प्रतिषत हुआ है। हालांकिनेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे 2019-21 (NFHS-5) बताता है कि प्रसूति के पहले एक घंटे के भीतर 10 में से केवल 4 शिशुओं को स्तन का दूध मिल पाता हैजबकि तीन में से दो शिशुओं को पहले छह महीनों में सिर्फ स्तन का दूध पिलाया जाता है।

ब्रेस्टमिल्क उन एंटीबॉडीज से भरपूर होता हैजो मजबूत इम्युन सिस्टम बनाते हैं और यह बच्चे की अच्छी सेहत का आधार होता है। रिश्ता के माध्यम से हमारा मकसद चिकित्सा पेशेवरों और चिकित्सा-सहायकों तक पहुँचकर विभिन्न विषयों पर स्वास्थ्य-सम्बंधी सुझाव देनाजैसे कि स्तनपान की मुद्राएं और तकनीकस्तनपान के लिये गोल्डन आवर’ का फायदानई माताओं की मानसिक स्वास्थ्य-सम्बंधी चिंताओं को हल करना और स्तनपान से जुड़े मिथकों को तोड़ना है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसारब्रेस्टमिल्क नवजात शिशुओं के लिये आदर्श आहार होता है। यह सुरक्षितशुद्ध होता है और इसमें इम्युन सिस्टम को बनाने वाले एंटीबॉडीज होते हैं। ब्रेस्टमिल्क पूरी ऊर्जा और पोषक-तत्व देता हैजिनकी जरूरत शिशु को जीवन के पहले कुछ महीनों में होती है। यह पहले साल की दूसरी छमाही के दौरान बच्चे की पोषण-सम्बंधी आवश्यकताओं में से आधी या अधिक को पूरा भी करता रहता है। जीवन के दूसरे वर्ष में ऐसी आवश्यकताएं एक-तिहाई तक रह जाती हैं। स्तनपान कराने वाली महिलाओं को स्तन एवं ओवरी के कैंसर का जोखिम भी कम होता है।

Tags:

About The Author

Related Posts

Latest News

बड़े मंगलभंडारे से पूर्व कराना होगा नगर निगम में पंजीकरण बड़े मंगलभंडारे से पूर्व कराना होगा नगर निगम में पंजीकरण
लखनऊ। जेष्ठ माह में आगामी बड़े मंगल पर्व पर आयोजित होने वाले भण्डारो और आयोजनों को लेकर नगर निगम प्रशासन...
अस्पताल निदेशक ने उत्कृष्ट कार्य को किया सम्मानित
डीएम इन्द्र विक्रम सिंह की अध्यक्षता में जिला सड़क सुरक्षा समिति की बैठक संपन्न
राम चमेली चड्ढा महाविद्यालय में एक दिवसीय पर्सनालिटी डेवलपमेंट कार्यक्रम संपन्न
विभिन्न श्रेणियों में प्रदान किए जाएंगे राष्ट्रीय एवं राज्य स्तरीय पुरस्कार
दिव्यांगजनो को शादी विवाह प्रोत्साहन पुरस्कार योजना में जरुरी नही विवाह पंजीकरण
भारतीय दूतावास ने कंबोडिया से कराया 360 भारतीयों का रेस्क्यू, भारत लौटा पहला जत्था