प्रमोद व मोना ने यूपी सरकार के बजट को निराशाजनक करार देते हुए ठहराया दिशाहीन

प्रमोद व मोना ने यूपी सरकार के बजट को निराशाजनक करार देते हुए ठहराया दिशाहीन

ब्रजेश त्रिपाठी

लालगंज, प्रतापगढ़। जिले की रामपुरखास की विधायक एवं कांग्रेस विधानमण्डल दल की नेता आराधना मिश्रा मोना तथा राज्यसभा में विपक्ष के उपनेता प्रमोद तिवारी ने उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा पेश किये गये बजट को दिशाहीन बजट करार देते हुए इसे निराशाजनक कहा है। कांग्रेस विधानमण्डल दल की नेता आराधना मिश्रा तथा विपक्ष के उपनेता प्रमोद तिवारी ने कहा है कि प्रदेश की भाजपा सरकार का यह बजट विकासपरक न होकर सिर्फ आकार एवं संख्या में ही बड़ा प्रदर्शित हुआ है। राज्यसभा सदस्य प्रमोद तिवारी तथा विधायक आराधना मिश्रा मोना ने कहा कि बजट का आकार व संख्या बड़ा होना बजट की सफलता की निशानी नही है।

कांग्रेस विधानमण्डल दल की नेता आराधना मिश्रा मोना ने कहा कि पिछले बजट को भी इसी तरह बडा बनया गया था। लेकिन चालीस प्रतिशत विभागों ने अपना आंवटित बजट खर्च ही नही किया। आराधना मिश्रा मोना ने कहा कि जब पिछले बजट का आंवटन विभाग खर्च नही कर पाये तो बजट को खर्च किये बिना प्रदेश का विकास कैसे हो सकता है। नेताद्वय ने कहा कि बजट को सबसे बडा करके कीर्तिमान रखने की बात की जा रही है। सीएलपी नेता मोना ने कहा कि हकीकत यह है कि अधिकांश बजट में अधिकांश आवंटन सिर्फ पुरानी योजनाओं को लेकर ही है। उन्होने कहा कि बजट का दस प्रतिशत अंश भी नयी योजनाओं के लिए नही है।

सीएलपी नेता आराधना मिश्रा ने कहा कि बजट में जिन योजनाओं में पिछले बजट में पैसा खर्च नही हो पाया था और बहुत से महत्वपूर्ण विभाग जिसमें पर्यटन विभाग भी शामिल है उन नयी योजनाओं के नाम पर कुछ भी नही मिला। राज्यसभा सदस्य प्रमोद तिवारी एवं विधायक आराधना मिश्रा मोना ने कहा कि साल भर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और प्रधानमंत्री मोदी पर्यटन को लेकर बातें करते रहे। लेकिन बजट में वह बाते कहीकत नहीं बन पायी। नेताद्वय के मुताबिक पर्यटन के अलावा अन्य महत्वपूर्ण विभाग भी हैं जहां से प्रदेश के युवाओं को रोजगार मिल सकता था।

प्रमोद तिवारी व विधायक आराधना मिश्रा मोना ने दावे भरे अंदाज में इस बजट में युवाओं को रोजगार के लिए कुछ भी नही मिलने को सबसे चिंताजनक पहलू करार दिया है। राज्यसभा में विपक्ष के उपनेता प्रमोद तिवारी ने कहा कि प्रदेश के विकास के लिए नई योजनाओं को लेकर भाजपा सरकार इस बजट में केंद्र सरकार की अधिकांश योजनाएं को भी दर्शा रही है। उन्होनें सवाल खड़ा करते हुए कहा कि भाजपा की प्रदेश जिन केन्द्र सरकार की योजनाओं को अपना बनाकर प्रस्तुत कर रही है ऐसे में अंदाजा लगाया जा सकता है

कि उत्तर प्रदेश की योगी सरकार प्रदेश के विकास तथा युवाओं की नौकरियों व आम आदमी की आय तथा किसानों की समृद्धि के साथ साथ प्रदेश की महिलाओं दलितों व पिछडो की सुरक्षा के लिए कतई गंभीर नही है। राज्यसभा सदस्य प्रमोद तिवारी तथा विधायक आराधना मिश्रा ने कहा है कि इस भारी भरकम बजट में मैन्युफैक्चरिंग क्षेत्र को भी नजरअंदाज किया गया है। नेताद्वय ने बजट की खामी गिनाते हुए कहा कि इससे यह बात स्पष्ट हो गयी है कि भाजपा सरकार प्रदेश के मध्यम वर्गीय जनमानस के रोजगार के लिए बिल्कुल भी चिंतित और गंभीर नही है।

संासद प्रमोद तिवारी व विधायक आराधना मिश्रा ने यह भी कहा कि आरबीआई के आंकडो के अनुसार प्रदेश के लोगों की आय घटकर आधी हो गयी है। कांग्रेस नेताओं ने राजकोषीय घाटे और प्रदेश के उपर बढ़ते कर्ज पर भी भाजपा सरकार को कटघरे में खड़ा करते हुए कहा कि राजकोषीय घाटा जो कि 8653051 करोड़ रूपये अनुमानित है। इसे कम करने की भी कोई ठोस नीति पर इस बजट में प्रावधान नही किया गया है। राज्यसभा सदस्य प्रमोद तिवारी तथा विधायक आराधना मिश्रा ने यूपी सरकार के बजट पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए केन्द्र सरकार की तरह उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार ने प्रदेश के बाइस करोड लोगों को निराश किया है।

प्रमोद तिवारी व आराधना मिश्रा मोना ने कहा कि पिछले बजट को सरकार खर्च नही कर पायी और इस बार बजट का सिर्फ नंबर बढ़ा दिया है। नेताद्वय ने कहा कि नंबर बढने से विकास नहीं हुआ करता। ऐसे में अब प्रदेश की भाजपा सरकार जब हर मोर्चे पर असफल हो चुकी है तो सिर्फ धर्म की आड़ ले रही है। नेताद्वय ने कहा कि बीजेपी सरकार के इस छलावे भरे बजट में निराश प्रदेश की जनता लोकसभा चुनाव में इनको इसका करारा जबाब भी देगी। राज्यसभा सदस्य प्रमोद तिवारी तथा विधायक आराधना मिश्रा मोना का बजट पर यह संयुक्त बयान यहां मीडिया प्रभारी ज्ञानप्रकाश शुक्ल के हवाले से निर्गत हुआ है।

About The Author

Latest News