अलाव की लकड़ी तोड़ने गई महिला की कुएं में डूबकर हुई मौत

अलाव की लकड़ी तोड़ने गई महिला की कुएं में डूबकर हुई मौत

सुल्तानपुर। ठंड के मौसम में प्रशासनिक लापरवाही की पोल खुल गई है। ठंड से राहत के लिए अलाव का प्रबंध करने हेतु लकड़ी इकट्ठा करने गई एक महिला की कुएं में डूबकर मौत हो गई है। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को बाहर निकलवाया और विधिक कार्रवाई करते हुए पोस्टमार्टम में भेजा है। वही घटना से परिवार में कोहराम मचा हुआ है। 

              जानकारी के अनुसार घटना जिले के मोतिगरपुर थानाक्षेत्र के पदारथपुर अचली गांव की है। यहां की निवासी सरोजा निषाद (50वर्ष) पत्नी कन्हैयालाल निषाद आज घर से लकड़ी के प्रबंध के लिए निकली थी। गांव के बाहर गुरुदीन के खेत में स्थित कुएं के पास लकड़ी तोड़ते समय उसका पैर फिसल गया और वो कुएं में जा गिरी। जिससे पानी में डूबने से उनकी मौत हो गई। घटना के काफी देर बाद 12 वर्षीय बेटी प्रिया जब मां को ढूंढते हुए वहां पहुंची तो पानी में डूबा देखकर वो चीखने चिल्लाने लगी। शोर सुनकर आसपास के लोग बड़ी संख्या में मौके पर इकट्ठा हो गए। सूचना पर पहुंची पुलिस ने ग्रामीणों की मदद से कुएं के अंदर की झाड़ियां को साफ कराकर छोटी रस्सी के सहारे चारपाई कुएं में डालकर शव को निकलवाया। शव का पंचनामा भरकर पुलिस ने पोस्टमार्टम के लिए भेजा है। मृतका के परिवार में बूढ़ी सास, पति कन्हैयालाल के अलावा बेटा शिवपूजन (17 वर्ष) और बेटी प्रिया (12 वर्ष) है। बड़ी बेटी पूजा शादीशुदा है। बताया जा रहा है कि परिवार बेहद गरीब है रहने को आवास तक नहीं है। मौके पर राजस्व निरीक्षक दियरा प्रसिद्ध नारायण मिश्र, प्रधान प्रतिनिधि अमरेश कुमार, प्रधान राजकुमार सहित कई लोग उपस्थित रहे। तहसीलदार जयसिंहपुर हृदयराम तिवारी ने बताया कि मृतका के अंतिम संस्कार की व्यवस्था कर दी गई है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद देवी आपदा के तहत पीड़ित परिवार को अहेतुक धनराशि दी जाएगी। लेकिन इस घटना ने प्रशासन द्वारा जलवाए जा रहे अलाव की पोल खोलकर रख दिया

है।

Tags:

About The Author

Latest News