मंत्री ने माइक्रोबायोलॉजिस्ट के वार्षिक सम्मेलन का किया शुभारंभ

समारोह में वॉकथॉन "लेट्स गो ब्लू" का हुआ आयोजन

मंत्री ने माइक्रोबायोलॉजिस्ट के वार्षिक सम्मेलन का किया शुभारंभ

  • 15 सौ से अधिक प्रतिनिधियों ने किया प्रतिभाग
लखनऊ। केजीएमयू के इंडियन एसोसिएशन ऑफ मेडिकल माइक्रोबायोलॉजिस्ट के 46वें वार्षिक सम्मेलन का आयोजन कुलपति प्रो सोनिया नित्यानंद के दिशा निर्देशन में किया गया।शुक्रवार को समारोह में देश के विभिन्न हिस्सों से करीब 15 सौ प्रतिभागी शामिल हुए। वहीं बीते गुरुवार को बतौर मुख्य अतिथि के रूप में चिकित्सा शिक्षा एवं परिवार कल्याण राज्य मंत्री मयंकेश्वर शरण सिंह ने माइक्रोकॉन 2023 का शुभारंभ किया।ज्ञात हो कि वर्तमान सदी में कई उभरती बीमारियाँ देखी गईं जैसे कि कोविड-19, डेंगू, चिकनगुनिया, इन्फ्लुएंजा, जापानी एन्सेफलाइटिस को नियंत्रित करने पर चर्चा हुई।
 
जिसमें चर्चा के दौरान देश के चार प्रमुख केंद्रों से स्नातकोत्तर छात्रों में पीजी संगोष्ठी की गई। विशेषज्ञों ने बताया कि हर साल सामने आने वाली पांच नई मानव बीमारियों में से तीन ज़ूनोटिक मूल की होती हैं और इनमें से 80 फीसदी एजेंटों में जैव आतंकवाद की संभावना होती है। इसी क्रम में सीएमसी वेल्लोर के प्रो. बालाजी द्वारा हाल ही में किए गए शोध के बारे में बताया।उन्होंने कहा कि भारत में खोजे गए सेफिपाइम ज़िडेबैक्टम एफडीए द्वारा अनुमोदित सेफिडेरोकोल की तुलना में एक ब्लॉकबस्टर एंटीबायोटिक होगा।उन्होंने आगे कहा कि प्रीक्लिनिकल चरण में एज़ट्रोनम नौबैक्टम भारतीय एएमआर समस्या के लिए आशाजनक होगा। डॉ. थिएरी नास, फ्रेंच नेशनल रेफरेंस सेंटर फॉर एंटीबायोटिक रेजिस्टेंस, ले क्रेमलिन-बिसेट्रे, फ्रांस ने एएमआर से निपटने के लिए रैपिड डायग्नोस्टिक्स की उपयोगिता पर चर्चा की। वायरल हेपेटाइटिस से निपटने के लिए निगरानी रणनीतियाँ डॉ. हेमा गोगिया, सहायक निदेशक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय। रेडक्लिफ लैब्स दिल्ली के डॉ. अशोक रतन ने चर्चा की। वायरल हेपेटाइटिस से निपटने के लिए प्रोग्रामेटिक निगरानी रणनीतियों पर सहायक निदेशक डॉ. हेमा गोगिया द्वारा चर्चा की गई।
 
वायरल हेपेटाइटिस की जांच और निदान - नए बायोमार्कर और जीनोटाइपिंग की भूमिका, प्रो.ललित डार अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान, नई दिल्ली द्वारा डॉ. इतिशा गुप्ता, कंसल्टेंट मेडिकल माइक्रोबायोलॉजिस्ट, यूनिवर्सिटी हॉस्पिटल बर्मिंघम यूके ने अस्पताल के कर्मचारियों के लिए मेटिसिलिन-प्रतिरोधी स्टैफिलोकोकस ऑरियस निगरानी के निहितार्थ पर चर्चा की। प्रो सुनील सेठी स्नातकोत्तर चिकित्सा शिक्षा और अनुसंधान संस्थान चंडीगढ़ द्वारा चर्चा की गई।
डॉ ध्रुव चौधरी अनुप्रयोग पर केस परिदृश्य साझा किए। प्रो.सरमन सिंह, भारतीय विज्ञान शिक्षा संस्थान और अनुसंधान, भोपाल ने टोक्सोप्लाज्मोसिस के निदान में चुनौतियों पर चर्चा की।
 
प्रो. वी रवि पूर्व प्रमुख,न्यूरोवायरोलॉजी विभाग, राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य और तंत्रिका विज्ञान संस्थान, बेंगलुरु ने साझा किया एईएस पर विचार: एल्गोरिदम और नए मार्कर। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान के प्रो इमैक्युलाटा साइंसेज ने फंगल संक्रमण के निदान के लिए सीरोलॉजिकल तरीकों पर बात की।सवाई मान सिंह मेडिकल कॉलेज जयपुर की डॉ. भारती मल्होत्रा ने एसएआरआई के साथ अस्पताल में भर्ती मरीजों में सिंड्रोमिक परीक्षण पर चर्चा की।
 
अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान, भोपाल के डॉ. देबासिस बिस्वास ने वायरोलॉजी में क्लिनिकल डायग्नोस्टिक्स के लिए अनुक्रमण की शक्ति के उपयोग पर चर्चा की।समारोह में एक संगोष्ठी में दुर्लभ फंगल संक्रमणों पर चर्चा की गई। 500 से अधिक प्रतिनिधियों द्वारा भारत भर में किए गए नए शोध पर निःशुल्क और मौखिक पेपर और पोस्टर प्रस्तुत किए गए।विश्व रोगाणुरोधी प्रतिरोध जागरूकता सप्ताह के अवसर पर रोगाणुरोधी दवा प्रतिरोध को रोकने के लिए एक वॉकथॉन "लेट्स गो ब्लू" का आयोजन किया गया। वॉकथॉन में 300 से अधिक एमबीबीएस, एमडी, पैरामेडिकल और नर्सिंग छात्रों ने भाग लिया, जिसमें प्रो. आरएएस कुशवाह, डीन स्टूडेंट वेलफेयर, डॉ. पुनिता मलिक, प्रो. अमिता जैन, प्रो. विमला वेंकटेश, डॉ. शीतल वर्मा और कई अन्य संकाय सदस्यों ने भाग लिया।
Tags: lucknow

About The Author

Latest News